'बच्चों को कार का दरवाज़ा खोलना नहीं आता था'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तमिलनाडु के तूतिकोरिन में पुलिस का कहना है कि बुधवार को चार बच्चों की कार में दम घुटने से मौत हो गई.

पुलिस ने आशंका जताई है कि बच्चे अंदर से कार के दरवाजे का लॉक नहीं खोल सके होंगे.

पुलिस ने इस सिलसिले में कार पार्किंग के केयरटेकर को गिरफ़्तार किया है.

पुलिस के अनुसार बच्चों की उम्र 4 से 10 साल के बीच थी और वे एक निजी स्थल पर बनी कार पार्किंग में खेल रहे थे.

इस जगह पर ऐसी ज़ब्त कारों को खड़ा किया जाता है जिनके मालिक बैंक का कर्ज़ नहीं चुका पाते हैं.

तूतिकोरिन के पुलिस अधीक्षक एम दुरई ने बीबीसी को बताया, "सभी बच्चे ग़रीब परिवारों से थे. वे नहीं जानते थे कि कार के दरवाजों को अंदर से कैसे खोला जाता है."

पुलिस अधीक्षक ने कहा, "बच्चे सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक नहीं दिखाई दिए. उनके माता-पिता उन्हें ढूंढ रहे थे, लेकिन उन्हें ये अंदाज़ा नहीं था कि वे कार के अंदर हैं."

उन्होंने बताया कि पुलिस ने पार्किंग के केयरटेकर कार्तिक को कार लॉक नहीं करने और पार्किंग स्थल का गेट खुला रखने के आरोप में गिरफ़्तार किया है.

कार्तिक पर ऐसी लापरवाही बरतने का आरोप है जो मौत का कारण बनी. पुलिस पार्किंग स्थल के प्रबंधक को भी तलाश रही है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार