मोदी के मंच से नदारद पृथ्वीराज चव्हाण

नागपुर में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PIB

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रमों में हरियाणा और झारखंड के मुख्य मंत्रियों के हूटिंग के बाद महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री ने ऐसे एक कार्यक्रम में शिरक़त नहीं की.

गुरुवार को नरेंद्र मोदी नागपुर में मेट्रो रेल परियोजना के भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए पहुंचे थे जिसमें पहले राज्य के मुख्य मंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को भी शामिल होना था. हालांकि कार्यक्रम में महाराष्ट्र के राज्यपाल मौजूद थे.

लेकिन उन्होंने बुधवार को ही इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होने की बात कह दी थी. पिछले हफ़्ते रायगढ़ में भी पृथ्वीराज चव्हाण प्रधानमंत्री के साथ एक मंच पर थे लेकिन वहां भी उनकी हूटिंग हुई थी.

इससे पहले गुरुवार सुबह झारखंड में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के भाषण में भारी हूटिंग की गई.

इसी सप्ताह हरियाणा में भी प्रधानमंत्री की रैली में मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के ख़िलाफ़ हूटिंग हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Neeraj Sinha

गंभीर मोदी

रांची से स्थानीय पत्रकार नीरज सिन्हा का कहना है कि गुरुवार को राजधानी रांची में हुई सभा में हूटिंग के दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने लोगों से यह कहते हुए स्थिति को सामान्य बनाने की कोशिश की कि मंच पर मौजूद सभी लोगों के कारण गंभीरता बनाए रखना ज़रूरी है.

वैसे हूटिंग कर रहे लोगों को प्रधानमंत्री ने भी हाथ से इशारा कर शांत रहने को कहा. लोग क्षण भर के लिए लोग शांत भी हुए, लेकिन फिर मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे.

रांची के प्रभात तारा मैदान में आयोजित इस कार्यक्रम में लोगों को हूटिंग करते देख प्रधानमंत्री भी कुछ क्षणों के लिए गंभीर दिखे.

इमेज कॉपीरइट PIB

सभा स्थल पर भाजपा के अन्य नेता और केंद्रीय मंत्री भी असहज महसूस कर रहे थे. दरअसल हूटिंग करने वालों में कई लोग भाजपा समर्थक और कार्यकर्ता थे.

'सिस्टम का बलात्कार'

झारखंड के मुख्यमंत्री और कांग्रेस ने इस घटना पर आपत्ति जताई है.

कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा, "संघीय व्यवस्था में ये नई परिपाटी शुरू हो गई है. इस पर आदरणीय प्रधानमंत्री को संज्ञान लेना चाहिए. जिस संघीय ढांचे की वह वक़ालत करते हैं, मुझे तो लगता है कि ये सिस्टम का बलात्कार है."

उन्होंने कहा, "हम लोग पार्टी की हैसियत से वहां उपस्थित नहीं हुए थे. मैं समझता हूं कि अगर राजनैतिक लड़ाई लड़नी है तो आया जाए चुनावी समर में."

हूडा की हूटिंग

इमेज कॉपीरइट PIB

मंगलवार को ही हरियाणा के कैथल में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में वहां के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के ख़िलाफ़ हूटिंग हुई थी. इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा था कि आगे से वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कोई मंच साझा नहीं करेंगे.

प्रधानमंत्री ने रांची में बने 765 किलोवाट के पावरग्रिड और इंडियन ऑयल के भंडारण केंद्र का ऑनलाइन उद्घाटन किया. इनके अलावा उन्होंने उत्तरी कर्णपुरा सुपर थर्मल पावर प्रोजक्ट, नेशनल डिजिटल लिटरेसी समेत चार महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट का ऑनलाइन शिलान्यास किया.

कांग्रेस की आपत्ति

विपक्षी दल कांग्रेस ने रांची में मुख्यमंत्री की हूटिंग पर आपत्ति जताई है.

कांग्रेस नेता अंबिका सोनी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की योजना के तहत ही लोगों ने हेमंत सोरेन के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी की.

लेकिन भाजपा का कहना है कि कांग्रेस को अच्छी तरह पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता देश में बढ़ रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार