इरोम शर्मिला को फिर गिरफ़्तार किया गया

इरोम शर्मिला इमेज कॉपीरइट AFP

सामाजिक कार्यकर्ता इरोम चानू शर्मिला को शुक्रवार को पुलिस ज़बरदस्ती उठा कर ले गई.

इरोम बुधवार को रिहा होने के बाद अस्पताल के बाहर ही धरने पर बैठी थी.

सशस्त्र बल विशेषाधिकार क़ानून (आफ़्स्पा) हटाए जाने की मांग को लेकर क़रीब 14 साल से इरोम शर्मिला मणिपुर में भूख हड़ताल पर हैं.

उन्हें लंबे समय से अस्पताल में ही हिरासत में रखा गया था. बुधवार को अदालत के आदेश पर उन्हें रिहा किया गया था.

रिहा होने के कुछ देर बाद ही उन्होंने अस्पताल के बाहर ही उपवास शुरू कर दिया था.

उस वक़्त उन्होंने कहा था, "जब तक सशस्त्र बल विशेषाधिकार क़ानून (आफ़्स्पा) हटाने की मेरी माँग मान नहीं ली जाती मैं तब तक उपवास करती रहूंगी. अदालत का यह आदेश कि मैं आत्महत्या का प्रयास नहीं कर रही हूँ, स्वागत योग्य है."

वह 13 साल से मणिपुर के एक अस्पताल में न्यायिक हिरासत में थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार