जब महिला ने अकेले तेंदुए को मार गिराया

  • 26 अगस्त 2014
उत्तराखंड, महिला इमेज कॉपीरइट SHIV JOSHI
Image caption तेंदुए के हमले में कमला को गंभीर चोटें आई हैं.

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज़िले की एक महिला ने अपने ऊपर हमला करने वाले तेंदुए को अकेले ही दरांती और कुदाल से मार गिराया.

कमला नेगी नाम की इन महिला को बुरी तरह घायल अवस्था में स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

उन्होंने इस पूरी घटना के बारे में बताया, “मेरे पास दरांती और कुदाल थी. उसी से तेंदुए पर कई वार किए, जिससे उसके दांत भी टूट गए. लगभग आधा घंटे मेरी उससे लड़ाई चली. बाद में पता चला कि उसकी मौत हो गई.”

सेमकोटी गांव की रहने वाली 56 साल की कमला नेगी का कहना है कि वो रविवार सुबह पास ही के एक नाले से अपने खेत के लिए पानी खींचने गई थीं. तभी झाड़ियों में छिपे तेंदुए ने उन पर हमला कर दिया.

तेंदुए को मारने के बाद खून से लथपथ कमला पहले अपने गांव पहुंचीं. गांव वाले उन्हें अगस्त मुनि क़स्बे के छोटे अस्पताल में ले गए.

इसके बाद उन्हें श्रीनगर के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया.

गंभीर चोट

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption हाल ही में एक वीडियो सामने आया था जिसमें एक तेंदुए को इस तरह लोगों पर झपटते दिखाया गया था

कमला का इलाज कर रहे श्रीनगर बेस अस्पताल के डॉक्टर अब्दुल रउफ़ ने बताया, “उनके बाएं हाथ की हड्डी बाहर आ गई है. दोनों हाथों की कोहनियां टूटी हैं. सिर पर भी घाव हैं. पूरे शरीर में काटने के निशान और नाखून की खरोंचे हैं. वैसे उनकी हालत ठीक है.”

वन विभाग का कहना है कि वो तेंदुए का पोस्टमार्टम करवा रहा है. पिछले दो सप्ताह में उत्तराखंड में तेंदुए के हमले की ये तीसरी घटना है.

अपनी जगहों में बढ़ते खलल और पेड़ों के कटने से तेंदुए जैसे जंगली जानवर रिहाइशी इलाकों का रुख कर रहे हैं. इस वजह से इस तरह के हमले बढ़ते जा रहे हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार