'हर घर में होगा एक बैंक खाता'

  • 28 अगस्त 2014
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल क़िले से जन धन योजना की घोषणा की थी

नरेंद्र मोदी गुरूवार को प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरुआत करेंगे. इसके तहत हर परिवार में कम से कम एक बैंक खाता खोलने का लक्ष्य रखा गया है.

भारत में लगभग 40 प्रतिशत लोग बैंकिंग सुविधा से वंचित हैं और क़र्ज़ के लिए ऊंची ब्याज दरों पर साहूकारों पर आश्रित हैं.

मोदी ने 15 अगस्त को स्वाधीनता दिवस पर अपने भाषण में कहा था, "लाखों ऐसे घर हैं जिनके पास मोबाइल फ़ोन तो हैं, लेकिन बैंक खाता नहीं है. हमें इन हालात को बदलना होगा."

सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार मोदी सरकार का लक्ष्य 2018 तक 7.5 करोड़ घरों को बैंक खाता उपलब्ध कराना है.

जन धन योजना योजना की मुख्य बातें -

  • यह मिशन दो चरणों में लागू होगा. पहला चरण 15 अगस्त 2014 से 14 अगस्त 2015 तक होगा.
  • सभी परिवारों को उचित दूरी के अंदर किसी बैंक की शाखा या 'बिजनेस कॉरस्पोंडेंट' के माध्यम से बैंकिंग सुविधाएं देना.
  • रुपे डेबिट कार्ड के साथ कम से कम एक मूल बैंकिंग खाता उपलब्ध कराना.
  • फिंगर प्रिंट से बैंक अकाउंट खोलना.
  • 5,000 रुपये तक की ओवरड्राफ्ट सुविधा.
  • सभी परिवारों को एक लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर.
  • दूसरा चरण 15 अगस्त 2015 से 14 अगस्त 2018 तक.
  • लोगों को माइक्रो-बीमा उपलब्ध कराना.
  • बिज़नेस कॉरस्पोंडेंट (बीसी) के माध्यम से स्वावलंबन जैसी ग़ैर-संगठित क्षेत्र पेंशन योजनाएं शुरू करना.
  • शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों को कवर किया जाएगा.
इमेज कॉपीरइट Reuters

वरिष्ठ अर्थशास्त्री प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के मुताबिक़ इस योजना से ग़रीबों को सरकारी योजनाओं का सीधा लाभ दिया जा सकेगा.

साथ ही यह अर्थव्यवस्था के वित्तीय समावेश के लिए भी बहुत कारगर साबित हो सकता है.

हालाँकि उनके मुताबिक़ योजना को लेकर कई सारी चुनौतियां भी हैं.

क्या हैं चुनौतियां

  • दूरदराज़ के इलाक़े जो बैंकों से कई किलोमीटर दूर हैं, उन तक पहुंचना.
  • ऐसे ग़रीब लोग जिनके पास पहचान का कोई सरकारी दस्तावेज़ नहीं है, उनका खाता कैसे खुलेगा.
  • अशिक्षितों को बैंक खाते की उपयोगिता बताना और सरकारी योजनाओं के फ़ायदे गिनाना.
  • बैंकों में मोबाइल सेवा की हालत बहुत अच्छी नहीं होना.
  • बैंक और खाताधारकों के बीच कड़ी का काम करने वाले बिज़नेस कॉरस्पोंडेंट को लेकर स्थिति स्पष्ट न होना.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार