नहीं रहे इतिहासकार बिपिन चंद्रा

इमेज कॉपीरइट PIB

जाने माने इतिहासकार बिपिन चंद्रा का शनिवार सुबह निधन हो गया. वो 86 बरस के थे.

दिल्ली के जीजस एंड मैरी कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर और बिपिन चंद्रा की छात्र रहीं ऋचा राज ने बताया कि उन्होंने शनिवार सुबह नींद में ही आख़िरी सांस ली.

भारत के राष्ट्रीय आंदोलन पर उनकी ख़ास विशेषज्ञता थी और उन्हें महात्मा गांधी पर भारत के अग्रणीय विद्वानों में एक माना जाता था.

उनकी शुरुआती अहम किताबों में 'द राइज़ एंड ग्रोथ ऑफ इकॉनॉमिक नेशनलिज़्म' भी शामिल है.

'इंडिया आफ़्टर इंडिपेंडेंस' और 'इंडियाज़ स्ट्रगल फ़ॉर इंडिपेंडेंस' जैसी उनकी किताबें भी ख़ासी चर्चित रही हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)