कश्मीर में बाढ़ का कहर जारी

  • 8 सितंबर 2014
कश्मीर में बाढ़ इमेज कॉपीरइट AP

भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान-प्रशासित कश्मीर में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है.

भारत में लगभग 150 और पाकिस्तान में करीब 200 लोगों की मौत हो चुकी है.

भारत में स्थानीय प्रशासन के साथ राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, एनडीआरएफ़, बचाव और राहत कार्य में जुटा हुआ है.

पढ़िए विस्तार से

भारत-प्रशासित कश्मीर में झेलम नदी का पानी श्रीनगर और आसपास के इलाकों में पहुंच गया है.

सोपोर से एडवोकेट अल्ताफ़ हुसैन ने फ़ोन पर बीबीसी को बताया कि फ़िलहाल वहां बारिश बंद है लेकिन वहां झेलम नदी ख़तरे के निशान से काफ़ी ऊपर बह रही है.

अल्ताफ़ हुसैन का कहना था, “झेलम का स्तर बढ़ रहा है जिससे आबादी को ख़तरा है. दक्षिण कश्मीर से पानी बहकर मध्य कश्मीर में आ गया है, श्रीनगर पानी से घिरा हुआ है, हालत बहुत ख़राब है. वो पानी सोमवार दोपहर तक सोपोर में पहुंचने के आसार है जिससे झेलम का स्तर और बढ़ जाएगा और पूरे शहर के डूबने का ख़तरा है.”

उनका ये भी कहना था कि श्रीनगर और बाकी घाटी से फ़ोन संपर्क पूरी तरह ख़त्म है और सिर्फ़ एक ही मोबाइल कंपनी के नंबर काम कर रहे हैं, और वो भी बहुत मुश्किल से.

दिक्कतें

इमेज कॉपीरइट Reuters

श्रीनगर से पत्रकार बासित का कहना है कि वहां मकानों की निचली मंज़िल पानी में डूबी है और लोग पहली मंज़िल पर रह रहे हैं.

अपने घर में फंसे बासित ने बताया, “अगर झेलम का स्तर बढ़ा तो पानी दूसरी मंज़िल तक आ जाएगा और हमें छत पर जाना पड़ेगा. पिछले एक-डेढ़ घंटे से पानी का स्तर बढ़ तो रहा है लेकिन धीरे-धीरे. सुबह यहां एक नाव दिखाई दी थी लेकिन वो कहां गई, नहीं पता. मोबाइल फ़ोन में भी कभी कभी सिग्नल आ रहा है.”

बाढ़ में फंसे लोगों के सामने आ रही दिक्कतों के बारे में बासित का कहना था कि वहां लोग को घरों में सामान जमा करके रखते हैं. अभी बाढ़ का दूसरा दिन है इसलिए ज़्यादातर लोगों को पीने के पानी की सबसे ज़्यादा दिक्कत हो रही है.

एनडीआरएफ़ द्वारा जारी वक्तव्य के मुताबिक उसकी टीमों ने अब तक लगभग चार हज़ार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया है.

संगठन की 12 टीमें श्रीनगर समेत राज्य के विभिन्न ज़िलों में तैनात हैं.

पाकिस्तान-प्रशासित कश्मीर

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में भी बाढ़ का कहर जारी है हालांकि पिछले दो दिन में वहां बारिश बंद हो गई है.

मुज़फ़्फ़राबाद से स्थानीय पत्रकार मिर्ज़ा औरंगज़ेब ज़राल ने बीबीसी को बताया कि पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में बाढ़ में अब तक 63 लोग मारे गए हैं. हज़ारों लोग बाढ़ से विस्थापित और बेघर हो गए हैं. स्थानीय प्रशासन के मुताबिक़ बहुत ज़्यादा तबाही हुई है.

स्थानीय प्रशासन के हवाले से मिर्ज़ा ज़राल ने बताया कि साल 1992 के बाद वहां नीलम, झेलम और पूंछ नदियों का स्तर इतना ज़्यादा बढ़ा है.

उन्होंने ये भी बताया कि पिछले दो दिन से बारिश का सिलसिला थम गया है और रविवार को सूरज निकला था. वहां नदियों का स्तर कम होता जा रहा है लेकिन इन तीन नदियों में अब भी काफ़ी पानी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार