बड़ौदा: सड़क पर दिखते हैं मगरमच्छ

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca

गुजरात के बड़ौदा शहर के लोगों ने बाढ़ का पानी कम होने के बाद भी चैन की सांस नहीं ली है क्योंकि अब शहर में दिखाई पड़ रहे हैं मगरमच्छ.

बड़ौदा में बीते रविवार की रात को भी पंद्रह फुट बडा मगरमच्छ गुजरात स्टेट प्रिवेन्शन ऑफ़ क्रुएलिटी टू एनीमल्स (जीएसपीसीए)संस्था ने पकडा है.

इस प्रकार की कम से कम 12 घटनाएं पिछले तीन दिनों में हुई है. इस साल मगरमच्छ के इंसानों पर हमले की 8 घटनाएँ हुई हैं और कम से कम एक व्यक्ति की इससे मौत भी हुई है.

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca

जीएसपीसीए के राज भावसार ने बीबीसी को बताया कि, ‘‘शहर के बीच में से जाती हुई नदी विश्वामित्री में पानी ना ही के बराबर होता है. मगरमच्छ या जिसे मॉस क्रोकोडाईल कहा जाता है वह कीचड़ में ज़्यादा पाए जाते हैं. बाढ़ का पानी भरता है तब ये बहाव के साथ खिंचे चले आते हैं. जलभराव कम होने के साथ ही मगरमच्छ शहर में दिखाई देने लगते हैं.’’

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca

बारिश के मौसम में बड़ौदा में मगरमच्छ दिखना बहुत ही सामान्य हो चुका है. दिसम्बर तक ऐसी घटनाएं होती रहेती हैं, क्योंकि सर्दियों में मगरमच्छों का हाईबरनेशन का वक्त शुरू होता है.

पानी के बहाव में रिहाईशी इलाक़ों में आ जाने वाले इन मगरमच्छों को जीएसपीसीए की बचाव टीम पकड़ कर वन विभाग को सौंप देती है, जो इन्हें नर्मदा डैम या आजवा तालाब के पानी में छोड देते हैं.

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca

राज भावसार के मुताबिक पिछले साल बड़ौदा में की गई गिनती में 210 मगरमच्छ पाए गए थे, यह संख्या इस वर्ष और ज़्यादा होने की संभावना है.

इस साल मगरमच्छों के इन्सानों पर हमले की आठ घटनाएं हो चुकी हैं.

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca

बड़ौदा में विश्वामित्री नदी के आसपास जहां झुग्गियां हैं वहां मगरमच्छों से सावधान रहने के बोर्ड्स भी लगाए गए हैं.

इस बाढ़ के दौरान एक बार अजगर जैसा बडा सांप भी जीएसपीसीए की बचाव टीम ने पकड़ा है.

इमेज कॉपीरइट raj bhavsar and gspca
Image caption कई बार मगरमच्छ पकड़े जाने के दौरान घायल भी हो जाते हैं तो उनका इलाज किया जाता है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार