बलात्कार पीड़ित का भेदभाव का आरोप

इमेज कॉपीरइट Reuters

कोलकाता के पार्क स्ट्रीट में बलात्कार का शिकार हुई सुज़ैट जार्डन ने शहर के एक रेस्तरां पर आरोप लगाया है कि बलात्कार पीड़ित होने के कारण उन्हें रेस्तरां में जाने से रोका गया.

सुज़ैट फ़रवरी 2012 में बलात्कार का शिकार हुई थीं. सुज़ैट ने बलात्कार के ख़िलाफ आवाज़ उठाने और अन्य पीड़ितों को हिम्मत दिलाने की कोशिशों के तहत अपनी नाम और पहचान जाहिर की थी.

सुज़ैट का आरोप है कि शनिवार की रात को वो अपने मंगेतर के साथ एक रेस्तरां-बार में गईं जहां मैनेजर ने उनसे कहा, '' मैं आपको अंदर नहीं आने दे सकता क्योंकि आपके तो वहीं हैं जिनके साथ बलात्कार हुआ था.''

पुलिस ने किया मामला दर्ज

बीबीसी से बातचीत में सुज़ैट ने बताया कि कतार में खड़े अन्य लोगों को रेस्तरां-बार में जाने दिया गया लेकिन उन्हें नहीं जाने दिया गया.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इसके बाद सोमवार को सुजैट ने रेस्तरां-बार के ख़िलाफ़ पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज़ कराई है. सुजैट का कहना था, '' यह घटना दिखाती है कि दिसंबर 2012 में दिल्ली में हुई बलात्कार की घटना के बाद राष्ट्रीय स्तर पर बहसें हुईं लेकिन अभी भी बलात्कार पीड़ितों के साथ भेदभाव हो रहा है.''

रेस्तरां-बार के मैनेजर मोहम्मद औरंगज़ेब ने सुज़ैट के आरोपों से इंकार किया है. उनका कहना था कि सुजैट रात के बारह बजे बार में पहुंचीं और उस समय बार बंद हो रहा था इसलिए उन्हें आने नहीं दिया गया.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार