आरएलडी समर्थकों और पुलिस में हिंसक झड़प

राष्ट्रीय लोकदल के समर्थक और पुलिस इमेज कॉपीरइट PTI

राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजीत सिंह को दिल्ली स्थित उनके सरकारी आवास से निकाले जाने के केंद्र सरकार के फ़ैसले का उनके समर्थक विरोध कर रहे हैं.

अजीत सिंह इस मकान को अपने पिता पूर्व प्रधानमंत्री चरणसिंह की याद में स्मारक के रूप में तब्दील करना चाहते हैं.

विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस और समर्थकों में हिंसक झड़प हुई है जिसमें 18 लोग घायल हुए हैं.

विरोध प्रदर्शन कर रहे समर्थक गंगनहर से दिल्ली को किए जा रहे जल आपूर्ति को मुरादनगर रेगुलेटर पर काटने की कोशिश कर रहे थे जिसे पुलिस ने नाकाम कर दिया.

मेरठ के आईजी अलोक शर्मा ने कहा, " उन लोगों ने दिल्ली को मिलने वाले जल आपूर्ति को काटने का आह्वान किया था. जिसके लिए बीकेयू और आरएलडी के 10000 समर्थक मुरादनगर रेगुलेटर के पास इकट्ठा हुए थे. यह एक विस्फोटक स्थिति थी क्योंकि प्रदर्शनकारी पत्थर और बोतल ले कर आए थे."

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने बताया कि इस घटना में कम से कम आठ सिपाही और दस प्रदर्शनकारी घायल हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार