बिलावल का बयान हक़ीक़त से दूर: भारत

बिलावल भुट्टो इमेज कॉपीरइट AFP

भारत ने पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के चेयरमैन बिलावल भुट्टो के कश्मीर पर दिए विवादास्पद बयान को ख़ारिज करते हुए कहा है कि भारत की एकता और अखंडता पर कोई समझौता नहीं हो सकता.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि उन्हें ऐसी बातों पर टिप्पणी करने की ज़रूरत नहीं, जो हक़ीक़त से बहुत दूर हैं.

अकबरुद्दीन ने कहा, "भारत बीती बातों के बजाय आगे बढ़ रहा है, पर आगे बढ़ने का यह मतलब नहीं कि हमारी सीमाओं में बदलाव होगा."

'कश्मीर वापस लूंगा'

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ बिलावल भुट्टो ने शुक्रवार को मुल्तान में एक रैली के दौरान कहा था, "मैं पूरा कश्मीर वापस लूंगा और इसका एक इंच भी नहीं छोडूंगा क्योंकि बाक़ी सूबों की तरह यह भी पाकिस्तान का है."

इमेज कॉपीरइट PTI

भाजपा और कांग्रेस ने भी बिलावल भुट्टो के बयान की आलोचना करते हुए कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताया है.

भाजपा नेता शाहनवाज़ हुसैन ने बिलावल भुट्टो के इस बयान को ग़ैरज़िम्मेदाराना बताया है.

शाहनवाज़ ने कहा, "कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. पाकिस्तान के क़ब्ज़े में जो कश्मीर है वह भी हमारा है. जम्मू-कश्मीर भारत के लोगों के दिलों में बसता है और पाकिस्तान इस तरह की बयानबाज़ी से कुछ हासिल नहीं कर सकता."

भाजपा नेता सुब्रह्यमण्यम स्वामी ने बिलावल के बयान को बचकाना बताया है.

एएनआई को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कहा, "अंग्रेज़ी में उनके लिए शब्द 'इमैच्योर' (अपरिपक्व) है. उनके पास राजनीति का कोई तजुर्बा नहीं है."

एक टीवी चैनल को दिए बयान में कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने कहा कि बिलावल के बयान का कोई मतलब नहीं और जम्मू-कश्मीर भारत का अविभाज्य हिस्सा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार