मोदी का 'मेक इन इंडिया' लॉन्च: दस ख़ास बातें

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरूवार से अपने महत्वाकांक्षी अभियान 'मेक इन इंडिया' की शुरुआत करेंगे. इसका उद्देश्य भारत को वैश्विक स्तर पर विनिर्माण क्षेत्र का केंद्र बनाना है.

अपने अमरीका दौरे से पहले मोदी 'मेक इन इंडिया' के तहत दुनियाभर की तमाम कंपनियों को भारत में विनिर्माण करने का न्योता दे रहे हैं.

'मेक इन इंडिया' को सरकार की विनिर्माण क्षेत्र में भारतीय अर्थव्यवस्था को अग्रणी बनाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.

जानिए 'मेक इन इंडिया' अभियान की दस ख़ास बातें.

1.कार्यक्रम की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अपने भाषण से की जहाँ उन्होंने सबसे पहले 'मेक इन इंडिया' और 'ज़ीरो डिफ़ेक्ट और ज़ीरो इफ़ेक्ट' का स्लोगन दिया था.

2.वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिए सरकार निवेशकों के लिए नियामक प्रक्रिया को आसान बना रही है ताकि निवेशकों को होने वाली दिक़्क़तों को कम किया जा सके.

3.इस अभियान को दुनिया के विभिन्न देशों की राजधानियों तक पहुंचाने के लिए ख़ास इंतज़ाम किए गए हैं. देश की राजधानी के साथ-साथ राज्य की राजधानियों और विदेशों के भारतीय दूतावासों में भी अधिकारी निवेशकों के साथ संवाद स्थापित करेंगे.

क्षेत्रों की पहचान

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption विनिर्माण क्षेत्र

4.सरकार के 'वाणिज्य मंत्रालय' ने विदेशी निवेशकों के लिए 'इनवेस्ट इंडिया' इकाई स्थापित की है, जो निवेशकों को सभी तरह की जानकारी और निवेश की अनुमति के लिए ज़रूरी प्रक्रियाओं को पूरा करने में सहयोग देगी.

5.मोदी ने इस मौक़े पर मेक इन इंडिया डॉटकॉम को लॉन्च किया है. इसमें निवेश के सेक्टर, प्रोजेक्ट्स और पॉलिसी से जुड़ी जानकारी साझा की जा रही हैं. इसमें निवेशकों के सवालों का जवाब भी दिया जाएगा.

6. सरकार ने 25 ऐसे क्षेत्रों की पहचान की है जिनमें वैश्विक स्तर पर नेतृत्व करने की संभावना है. इसमे ऑटोमोबाइल, एविएशन से लेकर रेलवे और थर्मल पॉवर प्रोजेक्ट जैसे सेक्टर शामिल हैं.

रोज़गार सृजन

इमेज कॉपीरइट Reuters

7.इस अभियान का उद्देश्य भारत की अर्थव्यवस्था को सेवा क्षेत्र समर्थित वृद्धि क्षेत्र से श्रम-प्रधान विनिर्माण क्षेत्र की तरफ़ ले जाना है. इससे क़रीब दस लाख लोगों को रोज़गार मिलने का अनुमान है.

8. 'मेक इन इंडिया' का मक़सद विदेशी कंपनियों को भारत में कारख़ाने स्थापित करने और देश की आधारभूत संरचना में निवेश के लिए प्रेरित करना है. सरकार ने रक्षा और बीमा क्षेत्र में निवेश आकर्षित करने के लिए उदार बनाया है.

9. इस अभियान को सफल बनाने के लिए सरकार युवाओं के प्रशिक्षण पर ख़ासा ध्यान देने की बात कह रही है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार