सीमा पर फ़ायरिंग जारी, दो की मौत

  • 8 अक्तूबर 2014
गोलीबारी से तबाह सीमा पर स्थित एक गांव का घर इमेज कॉपीरइट Reuters

कश्मीर में भारत-पाकिस्तान की सीमा पर गोलीबारी जारी है. भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के अधिकारियों का कहना है कि पाकिस्तान की ओर से की जा रही गोलीबारी में दो लोगों की मौत हो गई है, जिनमें एक महिला है.

पाकिस्तान भी भारत पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करने और बिना किसी उकसावे के गोली चलाने का आरोप लगाता है.

बीएसएफ़ के अधिकारियों का कहना है कि मंगलवार को दिन भर की शांति के बाद रात आठ बजे के बाद सीमा पार से 13 चौकियों को निशाना बनाया गया.

अधिकारियों ने बीबीसी संवाददाता रियाज़ मशरूर को बताया कि अरनिया, परगवाल, कानाचक और पुंछ के केरनी और बलनोई सेक्टर में स्थित चौकियों को निशाना बनाया गया.

वहीं सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के प्रवक्ता धर्मेंद्र पारेख ने बीबीसी हिंदी को बताया, "मंगलवार की शाम से बुधवार सुबह आठ बजे तक सीमा पार से गोलीबारी होती रही. इस गोलीबारी में बीएसएफ के तीन जवान और ग्यारह आम लोग घायल हुए हैं."

बीएसएफ़ अधिकारियों ने बताया कि तीन अक्तूबर से शुरू हुई गोलीबारी में अभी तक सात लोग मारे गए हैं और क़रीब 45 घायल हैं.

रातभर हुईर फ़ायरिंग के चलते संपत्ति का बहुत अधिक नुक़सान होने की आशंका भी है. बीएसएफ प्रवक्ता के मुताबिक मौसम ख़राब होने से भी मुश्किलें बढ़ी हैं.

अधिकारियों के मुताबिक़ फ़ायरिंग की वजह से लोग रात में घर छोड़कर चले जाते हैं और सुबह फ़ायरिंग बंद होने पर अपने घरों को लौटते हैं और घरेल सामान और पशुओं को संभालते हैं.

पाकिस्तान का आरोप

इमेज कॉपीरइट Abid Bhat
Image caption लाइन ऑफ़ कंट्रोल पर अपनी चौकी पर तैनात बीएसएफ़ का एक जवान

वहीं पाकिस्तान ने भारत पर संघर्ष विराम उल्लंघन का आरोप लगाया है. उसका कहना है कि भारतीय सुरक्षा बलों की गोलीबारी में सात लोगों की मौत हो चुकी है. पाकिस्तान ने इस मामले को संयुक्त राष्ट्र में भी उठाया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता तसनीम असलम ने रेडियो पाकिस्तान के एक कार्यक्रम में कहा कि इस समस्या की ओर दुनिया का ध्यान दिलाया जाएगा.

पाकिस्तान ने भारत की ओर से किए जा रहे संघर्ष विराम के उल्लंघन के मामले को संयुक्त राष्ट्र में उठाया है.

संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के स्थायी राजदूत मसूद खान ने भारत सरकार से तत्काल प्रभाव से संघर्ष विराम लागू करने और शांति बनाए रखने की मांग की.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने कहा कि भारत-पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के सैन्य पर्यवेक्षक समूह (यूएनएमओजीआईपी) को अपनी भूमिका निभाने में सक्षम बनाया जाना चाहिए.

राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश मामलों पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अजीज ने संघर्ष विराम के उल्लंघन पर गंभीर चिंता जताई है.

इस्लामाबाद में जारी एक बयान में उन्होंने कहा है कि भारतीय बलों ने ईद-उल-अज़हा का भी सम्मान नहीं किया. उन्होंने कहा कि सोमवार को भारतीय सुरक्षा बलों की ओर से की गई गोलीबारी में चार लोगों की मौत हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार