राहुल ने मोदी पर निशाना साधा

इमेज कॉपीरइट Getty

हरियाणा और महाराष्ट्र में विधान सभा चुनाव की तारीखें जैसे-जैसे नज़दीक आती जा रही हैं, चुनावी बयानबाज़ी भी बढ़ती जा रही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को महाराष्ट्र के अहमदनगर और बारामती में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कांग्रेस और एनसीपी को जमकर कोसा तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सीमा पर जारी गोलीबारी के मुद्दे पर मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया.

महाराष्ट्र के बारामती में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि यहां किसानों की हालत काफी बदतर है और उनकी हालत गुलामों जैसी है.

इससे पहले मोदी ने अहमदनगर में रैली को संबोधित करते हुए एनसीपी पर भ्रष्टाचारवादी होने का आरोप लगाया और यहां लागू एलबीटी (लोकल बॉडी टैक्स) को 'लूट बांटो टैक्स' कहकर पुकारा.

राहुल का मोदी पर निशाना

वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी उद्योगपतियों की सरकार चलाते हैं, गरीबों की नहीं. उन्होंने आरोप लगाया कि विदेशी कंपनियां देश में अपनी दवाइयां बेचना चाहती हैं और इसलिए यहां निवेश करना चाहती हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका यात्रा से पहले डायबिटीज की दवाई भी महंगी हो गई.

वहीं महाराष्ट्र के कोल्हापुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भाजपा और शिवसेना पर समाज को बाँटने की कोशिश का आरोप लगाया.

उन्होंने लोगों से इन दोनों पार्टियों से सावधान रहने की अपील की. सोनिया गांधी की महाराष्ट्र में गुरुवार से चुनावी सभाएं शुरु हुई हैं.

चुनाव आयोग की क्लीन चिट

इस बीच, रॉबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के बीच ज़मीन सौदे को चुनाव आयोग ने क्लीन चिट दे दी है. चुनाव आयोग का कहना है कि इस सौदे को हरियाणा सरकार द्वारा मंजूरी देना किसी भी तरीके से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए चुनाव आयोग से अपील की थी कि हुड्डा सरकार ने चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद वाड्रा के जमीन सौदे को मंजूरी दी है.

चुनाव आयोग ने इस मामले को गंभीरता से लिया और हुड्डा सरकार से जवाब मांगा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार