जम्मू कश्मीर: रातभर होती रही फ़ायरिंग

जम्मू के अरनिया गांव में कथित तौर पर सीमा पार से की गई गोलीबारी से घर की छत पर हुआ छेद इमेज कॉपीरइट EPA

जम्मू-कश्मीर में सीमा पर बुधवार रातभर फ़ायरिंग होती रही. सीमा पार से अब रात के साथ-साथ दिन में भी फ़ायरिंग हो रही है.

गुरुवार सुबह मैं जब ज़ीरो लाइन पर गया तो वहाँ सुचेतगढ़ के ऑक्टेरा पोस्ट पर भी गोलीबारी हो रही थी. यह वह पोस्ट है, जहाँ अक्सर दोनों देशों के सुरक्षा बलों की फ़्लैग मीटिंग होती है.

हमारे सामने भी कुछ गोले गिरे. इसके बाद सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के अधिकारियों ने सुरक्षा को देखते हुए हमें वहां से हटा दिया.

चौकियों पर निशान

इस दौरान नई बात यह देखने को मिली कि सीमा पार से पहले रात में होने वाली फ़ायरिंग अब दिन में भी होने लगी है.

अधिकारियों के मुताबिक़ सीमा पार से हो रही गोलीबारी में अब तक आठ लोगों की मौत हुई है और 75 लोगों से अधिक लोग घायल हुए हैं. इनमें 13 साल की एक लड़की और दो महिलाएं शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अधिकारियों ने बताया कि पिछले 48 घंटों के दौरान 64 चौकियों को निशाना बनाया गया.

अधिकारियों के मुताबिक़ गोलीबारी की वजह से सीमा पर स्थित कई गांवों के लोग अपना घर-बार छोड़कर सुरक्षित स्थान पर चले गए हैं. इसकी वजह से पूरे के पूरे गांव ख़ाली हो गए हैं. लोगों के सामने खाने-पीने के सामान का भी संकट पैदा हो गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सीमापार से हो रही गोलीबारी में घायल जवान को अस्पताल ले जाते उसके साथी.

अधिकारियों ने क़रीब सात हज़ार लोगों को 33 स्कूलों में बने राहत शिविर में रखा गया है. इन इलाक़ों में स्कूलों को राहत शिविरों में बदल दिया गया है.

बीएसएफ़ के मुताबिक़ सीमा पार अरनिया, आरएस पुराना, कानाचक, पारगवाल औप पुंछ के केरनी और बल्लौर में सेना स्थित चौकियों पर पिछले कई दिनों सीमा पार से गोलीबारी की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार