हुदहुद के कारण 38 ट्रेनें रद्द

चक्रवात हुदहुद इमेज कॉपीरइट AP

बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवातीय तूफ़ान हुदहुद शनिवार सुबह दक्षिणी ओडिशा के गोपालपुर तट से 380 किलोमीटर और विशाखापत्तनम तट से क़रीब 340 किलोमीटर की दूरी पर केंद्रित हो गया है.

भुवनेश्वर से स्थानीय पत्रकार संदीप साहू ने मौसम विभाग के हवाले से बताया है कि अगले 24 घंटों में तूफ़ान और भीषण रूप धारण कर सकता है और रविवार दोपहर तक विशाखापत्तनम के पास से तट पार करेगा.

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक रेल यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनज़र रेलवे ने 38 ट्रेनें रद्द कर दी हैं.

दक्षिण मध्य रेलवे ने यात्रा से जुड़ी चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अगले तीन दिनों तक सुरक्षा कारणों से ट्रेन सेवाओं में कुछ बदलाव किया जा सकता है.

तबाही की आशंका

तूफ़ान के कारण अगले 48 घंटे तक पूरे ओडिशा में बारिश होने की संभावना है लेकिन आठ ज़िलों में भारी बारिश हो सकती है.

ये आठ ज़िले हैं गंजाम, गजपति, कन्धमाल, नबरंगपुर, कालाहांडी, कोरापुट, रायगडा और मालकानगिरी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आंध्र प्रदेश के बंदरगाहों को भी चेतावनी जारी की जा चुकी है.

वहीं आंध्र प्रदेश के गोदावरी, कृष्णा, गुंटूर और प्रकाशम ज़िले में भारी वर्षा हो सकती है.

उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश में 60-70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चल रही हैं और रविवार सुबह तक तूफ़ान की रफ़्तार 140-150 किलोमीटर प्रति घंटे से बढ़कर 165 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है.

हैदराबाद से स्थानीय पत्रकार धनंजय के मुताबिक आंध्र प्रदेश के बंदरगाहों को भी चेतावनी जारी की जा चुकी है.

ऐसी आशंका है कि आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी और कृष्णा ज़िले में भारी तबाही हो सकती है.

बचाव और राहत कार्य के लिए राष्ट्रीय राहत आपदा बल (एनडीआरएफ़) की 15 और 'ओड्राफ' ((उड़ीसा डिजास्टर रैपिड एक्शन फोर्स) की 10 टीमों को प्रभावित इलाकों में भेज दिया गया है.

ईस्टर्न नेवल कमांड (विशाखापत्तन) की ओर से हेलिकॉप्टर और राहत सामग्री सहित चार जहाज तैयार रखे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार