आशा है भारत विवाद को नहीं उलझाएगा: चीन

इमेज कॉपीरइट AP

चीन ने अरुणाचल प्रदेश में दो हज़ार किलोमीटर लंबी सड़क बनाने की भारत की योजना पर आपत्ति जताई है.

समाचार एजेंसियों के अनुसार चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लाई ने कहा कि उम्मीद है कि भारत स्थिति को और 'पेचीदा' नहीं बनाएगा.

भारत के गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने मंगलवार को अरुणाचल प्रदेश में ये दो हजार किलोमीटर लंबी सड़क बनाए जाने की बात कही थी.

उन्होंने कहा कि सरकार राज्य में तवांग ज़िले में मागो तिंग्बू से लेकर छांगलांग जिले में विजयनगर तक सड़क बनाने की योजना बना रही है. उन्होंने कहा कि इससे सीमावर्ती गांवों से लोगों के माइग्रेशन की समस्या सुलझेगी.

सीमा पर विवाद

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हाल में चीनी राष्ट्रपति ने भारत का दौरा किया था

भारत और चीन के बीच 1962 में युद्ध हो चुका है और दोनों देशों के बीच अब भी सैकड़ों किलोमीटर लंबी सीमा को लेकर विवाद है. भारत के राज्य अरुणाचल प्रदेश पर भी चीन अपना दावा जाता है.

समाचार एजेंसियों के अनुसार अरुणाचल प्रदेश में सड़क बनाने की भारत की योजना पर चीनी प्रवक्ता ने कहा, "चीन और भारत को ये मुद्दा साझा तौर पर सुलझाना चाहिए. चीन-भारत सीमा के पूर्वी हिस्से पर विवाद है."

उन्होंने कहा, "उम्मीद है कि भारत सीमा विवाद के सुलझ जाने तक विवादित क्षेत्रों में इस मुद्दे को और जटिल बनाने वाले कदम नहीं उठाएगा."

भारत और पाकिस्तान सीमा पर जारी तनाव को लेकर चीनी प्रवक्ता ने दोनों पक्षों से संयम बरतने और बातचीत से मतभेदों को दूर करने कहा है.

चीनी प्रवक्ता ने हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनों से पैदा हालात को एक बार फिर चीन का आंतरिक मामला बताया और कहा कि अन्य देशों को इसमें दख़ल देने का कोई अधिकार नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार