बीजेपी बहुमत से दूर क्यों?

  • 20 अक्तूबर 2014
अमित शाह, नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट BJP MEDIA CELL

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की विजय के बाद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, "मोदी लहर आज भी सुनामी की तरह सब को ध्वस्त करने में सक्षम है."

हरियाणा में उनकी बात सच साबित होती है लेकिन अगर महाराष्ट्र में मोदी लहर होती तो भारतीय जनता पार्टी को पूर्ण बहुमत क्यों नहीं मिला?

शिवसेना ने गठबंधन तोड़ने के बाद भाजपा का कड़ा विरोध किया लेकिन इसके बावजूद इसे पिछले चुनाव से कहीं अधिक सीटें मिलीं.

ज़ुबैर अहमद का विश्लेषण

महाराष्ट्र के नतीजों से ऐसा लगता है कि न तो मोदी लहर थी और न ही सुनामी जैसी कोई बात.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र में बीजेपी के स्टार चुनाव प्रचारक थे.

उन्होंने राज्य भर में 27 रैलियों को सम्बोधित किया. पार्टी केवल मोदी के नाम पर चुनाव लड़ी थी.

मोदी लहर

इमेज कॉपीरइट Getty

अगर मोदी लहर होती तो पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिल जाना चाहिए था.

बीजेपी के एक प्रवक्ता ने मुझ से कहा था कि उनकी पार्टी उम्मीद के मुताबिक 145 सीटों से अधिक सीटें लाने में सफल होगी.

बीजेपी के अनेक नेता ये सुनने के लिए तैयार ही नहीं थे कि उनकी पार्टी को बहुमत नहीं मिल सकेगा क्योंकि वो भी अंदर ही अंदर मोदी के चमत्कार पर भरोसा कर रहे थे.

अगर मोदी लहर होती तो चुनाव के समय मोदी के खिलाफ बोलने वालों को शिकस्त का मुंह देखना पड़ता.

लेकिन शिवसेना के नेता उद्धव ठाकरे बार बार नरेंद्र मोदी के खिलाफ बोले. इसके बावजूद शिवसेना को पिछले चुनाव से अधिक सीटें मिलीं.

बीजेपी की जीत

इमेज कॉपीरइट Getty

कांग्रेस की बुरी तरह से हार हुई लेकिन राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को मोदी ध्वस्त करने में कामयाब नहीं हो सके.

हाँ, ये स्वीकार करना होगा कि नरेंद्र मोदी के कारण बीजेपी को काफी सीटें मिली हैं. मोदी की लहर नहीं थी लेकिन बीजेपी की इस जीत में उनका हाथ ज़रूर था.

उनकी प्रशंसा करने वालों की कमी नहीं थी. लेकिन विधानसभा चुनावों में मई के आम चुनावों वाली बात नहीं थी. सच तो ये है कि उनके खिलाफ बोलने वालों की भी कमी नहीं थी.

मैंने चुनाव के दौरान महाराष्ट्र भर में ये महसूस किया कि लोग मोदी सरकार से बहुत ज़्यादा खुश नहीं हैं.

'गुजरात के प्रधानमंत्री'

इमेज कॉपीरइट Reuters

पुणे के नज़दीक के एक गाँव में एक किसान की लड़की ने मुझ से दो टूक शब्दों में कहा कि मोदी ने किसानों के लिए अब तक कुछ नहीं किया है. इसलिए उनका वोट राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को जाएगा.

कुछ लोगों ने कहा कि मोदी बोलते अधिक हैं और शब्दों के राजा हैं लेकिन काम कम करते हैं. कुछ नेताओं ने मोदी को एक अच्छा 'अभिनेता' बताया.

और कुछ ने तंज भरे अंदाज़ में कहा कि वो केवल 'गुजरात के प्रधानमंत्री' हैं.

मोदी विरोधी बातें जितनी मैंने महाराष्ट्र में सुनीं, उतनी किसी और राज्य में अब तक नहीं सुनी थीं.

बदलाव के वोट

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption महाराष्ट्र के नतीजों से ऐसा लगता है कि न तो मोदी लहर थी और न ही सुनामी जैसी कोई बात.

हाँ, ये ज़रूर है कि मोदी से भी अधिक आलोचना मैंने कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के नेताओं की सुनी.

कई ने कहा कि कांग्रेस-एनसीपी सरकार के 15 साल के लम्बे काल में भ्रष्टाचार, घोटाले और किसानों की आत्महत्या जैसे मुद्दे ख़बरों में छाए रहे.

लोगों का मत इस मिली-जुली सरकार के खिलाफ भी था. आम तौर से लोगों ने मुझे बताया कि वो बदलाव चाहते हैं और वो बदलाव के लिए वोट देंगे.

बदलाव की इस चाह के बावजूद सभी मुख्य पार्टियों के अपने अपने किले मज़बूत रहे.

मोदी इन किलों को ध्वस्त करने में कामयाब नहीं रहे और इसी लिए बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार