सोशल मीडिया में मोदी से कौन 'बाज़ी ले उड़ा'?

  • 20 अक्तूबर 2014
अमेरिकाय वी नारायणन इमेज कॉपीरइट AMERICAI V NARAYANAN FACEBOOK PAGE

जिस दिन हरियाणा और महाराष्ट्र चुनाव में बीजेपी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की उस दिन ट्विटर पर #मोदीसुनामी या एनसीपी का ऑफ़र ट्रेंड नहीं कर रहा था. दरअसल मोदी की उपलब्धि को एक कांग्रेस प्रवक्ता अमेरिकाय वी नारायणन ने पीछे छोड़ दिया.

अमेरिकाय ने कुछ ऐसा किया कि #हेलयैह (#HellYeah) रविवार को ट्विटर पर सबसे ज़्यादा ट्रेंड करता रहा.

रविवार रात टाइम्स नाउ न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में जब उनसे पूछा गया कि क्या यूपीए सरकार में भ्रष्टाचार था, तो उन्होंने जवाब दियाः हेल यैह! (हां तो!)

बस तुरंत ट्विटर पर उनके बारे में चुटकुले बनने शुरू हो गए.

ट्रेंडिंग

इमेज कॉपीरइट Americai Narayanans Twitter

स्टेस्टिकलमॉंक ने लिखा, "मैं न्यूज़ चैनल पर होने वाली हर बहस में अमेरिकाय को देखना चाहता हूं ताकि तनाव भरे दिन के बाद कुछ राहत मिल सके."

वहीं सुमित सिद्धू का कहना था, "भारत में मोदीवेव देखने के बाद कांग्रेस अमरीका से अपना चक्रवात विशेषज्ञ अमेरिकाय नारायणन लेकर आई है."

प्राश ने कहा कि कोलंबस ने अमरीका को ढूंढा और राहुल गांधी ने अमेरिकाय नारायणन को खोजा.

बीआर तिवारी का कहना था कि अमेरिकाय नारायणन ट्विटर पर ऐसे छाए हैं जैसे किसी ने पैदल भागकर शूमाकर की फ़ेरारी को पछाड़ दिया हो.

यह अमेरिकाय हैं कौन?

अमेरिकाय की वेबसाइट के अनुसार तमिल मैग़ज़ीन 'जूनियर विकातान' ने अपने मुख्य लेख में उनका परिचय 'अमरीका' नारायणन के रूप में दिया था.

इमेज कॉपीरइट AMERICAI V NAYARAN.IN

"तब से तमिलनाडु में ऑटो चालक, झुग्गी बस्ती में रहने वाले और अन्य लोग उन्हें 'अमरीका' के नाम से जानते हैं."

हालांकि वह खुद को विनम्र जनसेवक मानते हैं इसलिए वह अपना नाम 'अमेरिकाय' (जिसका अर्थ तमिल में विनम्र होता है) इस्तेमाल करते हैं.

ऐसा लगता है कि उन्हें टॉक शो में आना पसंद है. उनकी वेबसाइट के अनुसार, उन्होंने "300 से ज़्यादा टीवी टॉक शो में हिस्सा लिया है. स्कूलों, कॉलेजों और कई संगठनों में प्रमुख वक्ता के रूप में शामिल हुए हैं."

ट्विटर पर वह लगातार इस बारे में अपडेट भी देते रहते हैं कि वह कब टीवी पर आने वाले हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार