चुनावी ख़बरें या खबरों की नीलामी?

भारत, चुनाव, वोटर, मतदाता, लड़कियाँ इमेज कॉपीरइट EPA

पेड न्यूज़ या ऐसी खबरें जो हक़ीकत में विज्ञापन होती हैं, लंबे समय से चिंता का कारण बनी हुई हैं.

माना जाता है कि खबरें असर पैदा करती हैं. लोग क्या सोचते हैं और खबर पढ़ने के बाद लोग क्या सोचेंगे?

इन दो स्थितियों के बीच की खाली जगह में खबरों की भूमिका बढ़ जाती है लेकिन अगर ये खबरें पैसे लेकर बेची जा रही हों तो...

ज़ुबैर अहमद का ब्लॉग

उस उम्मीदवार को मैं पहले से जानता था और उम्मीद कर रहा था कि मेरे फ़ोन करने पर वो ख़ुश होंगे.

लेकिन जब उन्होंने मेरी आवाज़ सुनने के बाद ठंडी सी प्रतिक्रिया दी तो मेरी हैरानी का अंत न रहा.

मैं विधानसभा चुनाव की रिपोर्टिंग करने के लिए महाराष्ट्र गया था. न तो चुनाव मेरे लिए कोई नई चीज़ थी और न ही राजनीतिक व्यक्तियों से फ़ोन पर बात करना.

पर ये मेरी समझ से परे था कि आख़िर वो उम्मीदवार मुझसे बात क्यों नहीं करना चाह रहे थे.

फिर मैंने कुछ दूसरे उम्मीदवारों को फ़ोन किया पर वो भी बात करने से कतरा रहे थे.

चर्चा

इमेज कॉपीरइट Daniel Stephen

अपनी समस्या मैंने एक स्थानीय पत्रकार के सामने रखी तो वो ज़ोर से हँसने लगे और कहा कि जो उम्मीदवार फोन नहीं उठा रहे थे वे डर रहे होंगे कि मैं उनकी कवरेज करने के लिए पैसे न मांग लूं.

मैं इससे काफी हैरान हुआ. मैंने एक साल पहले तक लगातार नौ साल मुंबई में रहकर महाराष्ट्र पर रिपोर्टिंग की थी और पिछले दो विधानसभा चुनावों को भी कवर किया था.

लेकिन पत्रकारों और मीडिया कंपनियों द्वारा पैसे लेकर रिपोर्टिंग करने वाली बात नहीं सुनी थी. इस बात पर मैं हैरान था कि पिछले एक साल में इतना कुछ बदल गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

पेड न्यूज़ पहले से अधिक प्रचलित हो गया था और इसका इस्तेमाल कई चैनल और अख़बार कर रहे थे. ऐसा लग रहा था मानो चुनावी अभियान की रिपोर्टिंग की बोली लग रही हो.

आज़ाद और निष्पक्ष पत्रकारिता का गला घोंटा जा रहा था और इस बारे में कोई चर्चा भी नहीं हो रही थी.

हाँ, ये पहले से चला आ रहा है लेकिन मेरे पत्रकार मित्र ने कहा इस बार ये खुले आम हो रहा है. उसने कहा अलग-अलग पैकेज के अलग-अलग चैनल अलग-अलग पैसे मांग रहे थे.

'पैकेज'

मेरे मित्र ने बताया, "एक बड़े चैनल को एक उम्मीदवार को एक हफ्ते तक उसकी चुनावी मुहिम को कवर करने के लिए दस लाख रुपए तक मिल रहे हैं. एक छोटा अख़बार इसी कवरेज के दो लाख रुपए ले रहा है."

उसने कहा उसे एक उम्मीदवार ने खुद फोन करके कहा कि वो मीडिया में कवरेज के लिए किसी चैनल से बात करे और पैसे की चिंता न करे.

मैंने पूछा तुम भी इस काम के पैसे लोगे? उसने कहा क्यों नहीं! "मैं एक पेशेवर फ्रीलांस पत्रकार हूँ. मैं कंसल्टेंसी की फीस ले रहा हूँ."

इस पूरे मामले की पुष्टि एक उम्मीदवार ने भी की और कहा खुद उसने एक चैनल और एक अख़बार से चुनावी अभियान के लिए पैकेज खरीदे हैं.

आयोग की चिंता

Image caption मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पेड न्यूज़ और प्रमोशनल न्यूज़ महाराष्ट्र और हरियाणा चुनावों के दौरान उनके लिए चिंता के विषय थे.

मुझे इस बात पर हैरानी हुई कि चुनाव आयोग को इस बारे में कुछ मालूम क्यों नहीं.

कुछ दिन पहले मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत के उस बयान को पढ़ कर इत्मीनान हुआ जिसमें उन्होंने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के दौरान पेड न्यूज़ और प्रमोशनल न्यूज़ पर चिंता जताई है.

उन्होंने एनडीटीवी को बताया कि चुनाव के दौरान पेड न्यूज़ और प्रमोशनल न्यूज़ सबसे बड़ी चिंता का विषय थे.

उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि चुनाव के दौरान काला धन बाँटा जा रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार