काला धन: कांग्रेस के मोदी से 8 तीखे सवाल

मोदी इमेज कॉपीरइट AP

कांग्रेस ने कहा है कि केंद्र सरकार काले धन के मसले में नाम सार्वजनिक करने को लेकर कांग्रेस को धमकाए नहीं.

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने मोदी सरकार पर बुधवार को निशाना साधा और पूछा कि 'पिछले 150 दिनों में काला धन लाने के मसले में सरकार ने क्या किया है?'

इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा था कि काले धन के मुद्दे पर जब नाम सार्वजनिक होंगे तो कांग्रेस को काफ़ी शर्मिंदगी उठानी पड़ेगी.

इसके बाद कांग्रेस की ओर से मोदी सरकार से आठ सवाल पूछे गए हैं.

कांग्रेस के 8 सवाल

1- आज पाँच महीने बाद आप विदेश से कितना रुपया वापस लाए हैं? आप पाँच रुपए लाए हैं, 500 लाए हैं, पाँच करोड़ लाए हैं या 50 करोड़ लाए हैं? क्या आप ये काला धन इस जीवन काल में लाएँगे, या अगले जीवन काल में? काला धन वापस लाने का आपका स्पष्ट वायदा था देश से और उसकी शुरुआत इन 150 दिनों में हो जानी चाहिए थी.

इमेज कॉपीरइट PIB
Image caption कांग्रेस प्रवक्ता सिंघवी ने लगातार प्रधानमंत्री मोदी पर तीखा हमला किया

2- उच्चतम न्यायालय के पुराने आदेश में संशोधन किसने माँगा, कभी कांग्रेस सरकार ने माँगा या बीजेपी सरकार ने 100 दिन के भीतर माँग लिया? कुछ दिन पहले बीजेपी सरकार ने अर्ज़ी में कहा गया कि 'कृपया हमें ये अनुमति दें कि हम आपके आदेशानुसार नामों को खुलासा न करें'.

3- आपने देश को गुमराह क्यों किया, झूठे वायदे क्यों किए? ये सवाल उन 18 महीनों का है जब आपने (मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान) बार-बार कहा कि हम 100 दिनों में विदेश का काला धन लेकर आएँगे. क्या आज आप देश से माफ़ी माँगेंगे?

4- कृपया देश को बताएँ कि इन 150 दिनों में क्या आपने मूल मुद्दे से संबंधित एक भी प्रभावशाली ठोस क़दम उठाया है? ये न कहें कि दो हफ़्ते पहले आपका प्रतिनिधिमंडल स्विट्ज़रलैंड गया था, परिणाम बताएँ.

5- आपने कल कहा कि आप 800 में से 136 लोगों के नाम बताएँगे. आप ये चयन क्यों कर रहे हैं सभी 800 नाम बताएँ.

6- एक-दो बार सरकार में रहने के बाद इस तरह की अपरिपक्व राजनीति न करें कि आप कांग्रेस को डरा-धमका रहे हैं. आप कांग्रेस को डराएँ-धमकाएँ नहीं.

इमेज कॉपीरइट AP

7- सुरक्षा या खुलासा न करने की प्रवृत्ति किसकी है. ये माँग बीजेपी सरकार की है. सत्ता आपके पास है, यंत्र-तंत्र आपके पास है, अगर आप माँग कर रहे हैं कि खुलासा न हो तो लोगों को बचाने का आरोप हम पर क्यों लगा रहे हैं?

8- एसआईटी के लिए आप बार-बार श्रेय लेते हैं. ये दुर्भाग्यपूर्ण है. इसमें आपका कोई योगदान नहीं था. आप बार-बार ये कहकर देश को बरगला रहे हैं कि आपने एसआईटी बनाई. इसका सीधा तथ्य है कि एक मई को उच्चतम न्यायालय के आदेश के मुताबिक़ एसआईटी गठित हुई. इसमें आपकी क्या भूमिका है, आपने तो सिर्फ़ नाम डाले सदस्यों के.

ये आठ सवाल पूछने के बाद सिंघवी ने कहा, "पूरा देश इतंज़ार कर रहा है कि विदेश से जो इतने हज़ार रुपए सब भारतीयों के अकाउंट में आने वाले हैं, जिसका प्रधानमंत्री ने बार-बार वायदा किया था, उसका आंशिक रंग तो दिखा दें, देश को."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)