'....वर्ना मार पड़ेगी मिजाज से'

झारखंड में शराब के ख़िलाफ़ जुलूस इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

झारखंड के आदिवासी गांवों में महुआ और चावल से बने शराब का सेवन आदिवासी समाज की खान-पान की संस्कृति का हिस्सा है.

शराब को जिस तरह की मान्यता इस समाज में मिली हुई है उसतरह की मान्यता शायद ही किसी अन्य भारतीय समाज में देखने को मिलती है.

लेकिन शराब के कारण पैदा होने वाले सामाजिक-आर्थिक दुष्प्रभावों ने आदिवासी महिलाओं को इसके ख़िलाफ़ लामबंद कर दिया है.

महिलाओं ने शराब के ख़िलाफ़ रांची के आसपास के गांव में इन दिनों मुहिम छेड़ रखी है.

नीरज सिन्हा की रिपोर्ट

किसी आदिवासी गांव में सुबह घंटी के साथ महिला, बच्चों के नारों की शोर दूर तक सुनाई पड़े, तो अनजान शख्स यही अंदाजा लगा सकता है कि स्कूल या आंगनबाड़ी केंद्र में कोई कार्यक्रम होना है.

लेकिन इन दिनों छोटानागपुर क्षेत्र के आदिवासी इलाकों में इस आगाज़ के साथ हर सुबह एक मुहिम छेड़ी जाती है- तौबा करो शराब से वर्ना मार पड़ेगी मिजाज से.. मतलब गावों में शराब बनाने और पीने पर महिलाओं और बच्चों की सख्त पांबदी.

पुरुष भी शामिल

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

पखवाड़े भर पहले लोहरदगा ज़िले के हनहट पंचायत से शराब के ख़िलाफ़ छेड़ी गई ये मुहिम अब रांची समेत आसपास के जिलों के दो सौ से अधिक गांवों में जोर पकड़ने लगी है.

कई जगह महिलाओं की इस मुहिम में अब मुखिया, पंचायत प्रतिनिधि और पुरुष भी शामिल होने लगे हैं.

घरों और अवैध भट्ठियों से जब्त शराब की हांडियां फोड़ दी जाती हैं. बर्तन, कनस्तर तोड़ दिए जाते हैं. महुआ से बनी (चुलाई) शराब सड़कों पर बहा दी जाती हैं.

झारखंड के गांवों में महुआ से बनी शराब और चावल से बनाए जाने वाला मादक पेय हड़िया का प्रचलन बहुत पुराना है. चोरी-छिपे महुआ से शराब बनाना अवैध कारोबार माना जाता है.

चरकू उरांव की उम्र सत्तर पार है. वो बताते हैं कि पिछले पंद्रह दिनों से उन्होंने शराब नहीं पी. सांझ ढलते ही परेशानी तो महसूस होने लगती है, लेकिन बहू- बेटियों के गुस्से को देखते हुए हलक सूखा रख लेते हैं.

महिलाओं की जुलूस में शामिल जुगून उरांव कहते हैः हमनें तो पहले ही शराब छोड़ दी है.

करकरी गांव की एक स्कूली छात्रा रोशनी ने बताया कि थोड़ी देर पहले ही पुनगी गांव की महिलाएं भी गांव की सड़कों, गलियों में निकली हुई थीं.

पंरपरा

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

इस बीच कॉलेज की छात्रा मरियम ने अनुरोध किया कि थोड़ी देर इंतजार कर लें, सैकड़ों महिलाएं जुटने वाली हैं.

मरियम से हमनें पूछा कि हड़िया, शराब का सेवन तो परंपरा से जुड़ा माना जाता है, फिर विरोध क्यों?

उनका कहना था कि क्या बड़े- बुर्जुगों ने नई पीढ़ी से ये कहा था कि शराब के पीछे कमाई लुटा दो. बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान मत दो. और महिलाएं खेतों में काम करे, पुरूष मटरगश्ती करें.

बीस साल की आंगनबाड़ी सेविका संतोषी कहती हैं कि ये मुहिम बहुत पहले छेड़ी जानी चाहिए थी.

वो जब ब्याह कर इस गांव में आई थीं तो सोचती थी कि शराब बच्चों के भविष्य पर बन आई है, कैसे सुधरेंगे लोग. सच पूछिए तो युवा पीढ़ी की सेहत बर्बाद हो रही है.

नशामुक्त समाज पर ज़ोर

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

देखते ही देखते सैकड़ों महिलाएं जुट गईं. हाथों में लाठी- डंडे और पीठ में बंधें मासूम बच्चे.

आदिवासी गांवों में महिला मंडलों की पहचान अमूमन लाल पाड़ी वाली सफेद साड़ी से की जाती है. लिहाजा गांवों में ये जुमला भी चल निकला है कि लाल पाड़ वाली साड़ियों पर नज़र पड़ते ही कथित पियक्कड़ों की चाल हो जाती है सीधी.

स्थानीय पत्रकार उदय सिंह बताते हैं कि राजीपड़हा सरना प्रार्थना सभा महिलाओं को एकजुट कर शराब के ख़िलाफ़ जनमानस तैयार करने में जुटा है.

सभा के संस्थापक बंधन तिग्गा नशामुक्त समाज पर जोर दे रहे हैं.

वो बताते हैं कि इन इलाकों में पहले भी शराब के ख़िलाफ़ कभी- कभार विरोध प्रकट किए जाते थे, लेकिन इस तरह की मुहिम शायद पहली बार छेड़ी गई है. गुप्त सूचनाओं के आधार पर महिलाएं घरों के अलावा अब मुख्य मार्ग पर ढाबों, लाइन होटलो में भी दबिश डाल रही हैं.

बदलाव के संकेत

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

गांव की सहिया अनिता भगत कहती हैं कि ये मुहिम बदलाव का संकेत है और अब गांवों की महिलाएं सामाजिक, आर्थिक तानाबाना बदलने को सचेत हो रही हैं.

लाठी डंडे लेकर निकलने की जरूरत पर महिला मंडल की रूपी कहती हैं कि कई मौके पर शराब बनाने और पीने वालों के विरोध का सामना करना पड़ा. वैसे भी शराब की वजह से ही यहां बात- बात पर जान ले ली जाती है.

महिलाएं डायन प्रताड़ना- हिंसा का शिकार होती हैं. लिहाजा यह रुख अख्तियार करना पड़ा है.

पंचायत प्रतिनिधि सुकरा लोहरा कहते हैं फिलहाल इस अभियान का असर दिख रहा है. लेकिन शराब बनाकर पेट पालने वाले संकट में हैं.

महिला हिंसा

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

पिछले साल झारखंड में डायन के नाम पर 48 हत्याएं हुई थीं. इस साल के अगस्त महीने तक 31 हत्या के मामले दर्ज किए गए हैं. इनमें 26 घटनाएं आदिवासी इलाकों में हुई हैं.

इसी साल के आठ महीनों में दुष्कर्म के 784 मामले दर्ज किए गए हैं. इनमें 500 सौ से अधिक मामले आदिवासी इलाके के हैं.

गांव के लोग बताते हैं कि महुए से शराब को जल्दी और असरदार बनाने के लिए कई रसायनिक पदार्थों का इतेमाल किया जाता है. लिहाजा ये स्वास्थ्य के लिए भी खतरनाक होता है.

राजेंद्र आर्युविज्ञान संस्थान रांची में औषधि विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ विद्यापति बताते हैं कि महुए से बनी शराब के इस्तेमाल से लीवर और किडनी पर सीधा असर पड़ता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार