बेंगलुरु रेप: स्कूल पर धोखाधड़ी का मामला

बलात्कार के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट EPA

कर्नाटक सरकार उस निजी स्कूल के ख़िलाफ़ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराएगी जहाँ मंगलवार को नर्सरी में पढ़ने वाली एक बच्ची से बलात्कार का मामला सामने आया था.

सरकार का कहना है कि यह स्कूल शिक्षा क़ानूनों का उल्लंघन करके चलाया जा रहा था.

पीड़िता की उम्र तीन साल दस महीने है. मंगलवार को स्कूल से लौटने के बाद उसने अपने माता-पिता से 'स्कूल के अंकल' के चलते दर्द की शिकायत की.

माता-पिता ने बच्ची के यौन अंगों के आसपास निशान देखे. इसके बाद पुलिस के पास उन्होंने शिकायत दर्ज कराई.

बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर एमएन रेड्डी के अनुसार मेडिकल रिपोर्ट में बच्ची के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है.

रेड्डी ने ने बीबीसी हिन्दी से कहा, "प्रथम दृष्टया बलात्कार स्कूल के अंदर हुआ है."

धोखाधड़ी का मामला

ख़ुद को 'अंतरराष्ट्रीय स्कूल' कहने वाले इस स्कूल को साल 2013-2014 के सत्र के लिए कक्षा एक से लेकर पाँच तक की शिक्षा कन्नड़ माध्यम में दिए जाने की अनुमति मिली थी.

कमिश्नर फॉर पब्लिक कंस्ट्रक्शन, कर्नाटक के कमिश्नर मोहम्मद मोहसिन ने बीबीसी हिन्दी से कहा, "यह स्कूल इंग्लिश माध्यम में एक से सात कक्षा तक की शिक्षा दे रहा था. स्कूल के पास नर्सरी स्कूल चलाने की भी अनुमति नहीं थी."

मोहसिन ने अपने विभाग के अधिकारियों को कर्नाटक शिक्षा अधिनियम के तहत क़ानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

मोहसिन ने कहा, "हाँ, हम धोखाधड़ी के मामले की जाँच कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने आम जनता को भी धोखा दिया है."

दिशा-निर्देश

इमेज कॉपीरइट AP

पुलिस स्कूल के कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है.

रेड्ड़ी ने बताया, "अभी हम जाँच में व्यस्त हैं इसलिए इस बात की पड़ताल नहीं कर पाए हैं कि जुलाई में जारी दिशा-निर्देशों का पालन किया जा रहा था या नहीं. हमने स्कूल के 18 सीसीटीवी कैमरों की सामाग्री जब्त की है."

जुलाई में दक्षिण-पूर्व बेंगलुरु के एक स्कूल में एक छह साल की बच्ची के साथ हुए कथित बलात्कार के बाद बैंगलोर पुलिस ने सभी स्कूलों को दिशा-निर्देश जारी किए थे. घटना के बाद व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार