दिल्ली में सरकार के लिए अभी 'इंतज़ार'!

  • 30 अक्तूबर 2014
सुप्रीम कोर्ट, भारत इमेज कॉपीरइट AFP

दिल्ली में सरकार गठन पर उच्चतम न्यायालय में जारी सुनवाई 11 नवंबर तक टल गई है.

अदालत दिल्ली में विधान सभा भंग किए जाने की मांग को लेकर दायर आम आदमी पार्टी की याचिका पर सुनवाई कर रही थी.

न्यायालय ने दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर उप राज्यपाल नजीब जंग द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर संतोष जताया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ न्यायालय ने कहा कि उप राज्यपाल को और समय दिया जाना चाहिए क्योंकि दिल्ली में बाहरी समर्थन से अल्पमत सरकार की संभावना है.

मुख्य न्यायाधीश एच एल दत्तू की अगुवाई वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने कहा कि सरकार गठन को लेकर जिस तरह की ख़बरें आ रही है उससे लगता है कि उप राज्यपाल एक सकारात्मक कोशिश कर रहे हैं.

इंतज़ार

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग सभी दलों की बैठक बुलाने वाले हैं.

न्यायालय ने आप के वकील प्रशांत भूषण से कहा कि वह कुछ समय इंतज़ार कीजिए क्योंकि उप राज्यपाल ने दिल्ली में सरकार बनाने के लिए राजनीतिक दलों से चर्चा शुरू कर दी है.

70 सदस्यों वाली दिल्ली विधानसभा में तीन सीटें अभी रिक्त हैं.

भाजपा गठबंधन के 29, आम आदमी पार्टी के 27 और कांग्रेस के आठ विधायक हैं. इसके अलावा दो विधायक निर्दलीय और एक जदयू का है.

इस साल फ़रवरी में आप की सरकार के इस्तीफ़े के बाद से दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार