थरूरः सरकार कर रही इंदिरा गांधी की उपेक्षा

सरदार पटेल इमेज कॉपीरइट Reuters

भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती को 'राष्ट्रीय एकता दिवस' के रूप में मना रही है. इस मौक़े पर देश के विभिन्न हिस्सों में 'रन फ़ॉर यूनिटी' का आयोजन किया गया.

इस मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "सरदार पटेल के बिना गांधी भी अधूरे लगते हैं."

इससे पहले उन्होंने ट्वीट किया था, "सरदार पटेल का जीवन साहस, समर्पण और मातृभूमि की सेवा का सफ़र है. वास्तव में वह आधुनिक भारत के निर्माता हैं."

'शर्मनाक'

कांग्रेस नेता शशी थरूर ने ट्वीट किया, "यह शर्मनाक है कि सरकार इकलौती प्रधानमंत्री की मौत की उपेक्षा कर रही है, जिनकी अपने कार्यालय में हत्या कर दी गई थी. अक्तूबर 31 को भुला दिया गया?"

इमेज कॉपीरइट EPA

राजनीतिक विश्लेषक विनोद शर्मा ने कहा, "बदले की भावना से तो राजनीति नहीं होनी चाहिए. तो हममें और हमारे बग़ल वाले मुल्क में फ़र्क़ क्या है कि आज प्रधानमंत्री है, कल तड़ीपार है."

वरिष्ठ कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा, "देश के लिए इंदिरा गांधी ने अपना जीवन कु़र्बान कर दिया, भाजपा उनकी उपेक्षा करके अपनी मानसिकता प्रदर्शित कर रही है."

इस मौक़े पर मोदी ने कहा कि पटेल ने देश की पाँच सौ से ज़्यादा रियासतों के भारत में विलय का काम किया.

उन्होंने कहा, "सरदार पटेल ने हमें एक भारत दिया. श्रेष्ठ भारत बनाना हमारी जिम्मेदारी है."

इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि

इस कार्यक्रम में शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद रहे.

'रन फ़ॉर यूनिटी' में क्रिकेटर गौतम गंभीर, मुक्केबाज़ विजेंदर ने भी हिस्सा लिया.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption 31 अक्टूबर को भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि है.

इससे पहले, गांधी जयंती के मौक़े पर मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी.

शुक्रवार को ही भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि भी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार