गोवा: मुख्यमंत्री को लेकर भाजपा में तनाव

इमेज कॉपीरइट AP

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का केंद्र में मंत्री बनना लगभग तय हो गया है, लेकिन उनके उत्तराधिकारी को लेकर गोवा में भारतीय जनता पार्टी में घमासान मचा हुआ है.

राज्य के उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा ने उन्हें नज़रअंदाज़ करने की स्थिति में इस्तीफ़े की धमकी दी है.

शनिवार को भाजपा विधायक दल की बैठक होनी है और उसी में मनोहर पर्रिकर के उत्तराधिकारी का फ़ैसला होना है.

गोवा से स्थानीय पत्रकार संदेश प्रभुदेसाई कहते हैं कि मुख्यमंत्री पद के लिए दो नेताओं- राज्य के स्वास्थ्य मंत्री लक्ष्मीकांत परसेकर और विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र अर्लेकर के नाम चर्चा में हैं.

बकौल प्रभुदेसाई ये दोनों ही नेता भाजपा के काफी वरिष्ठ नेता हैं और संघ के भी करीबी माने जाते हैं और संघ के प्रचारक रह चुके हैं.

धमकी

संदेश प्रभुदेसाई कहते हैं कि फ्रांसिस डिसूजा लंदन में थे और शुक्रवार को वापस आने पर अल्पसंख्यक समुदाय के अपने समर्थकों से उन्होंने मुलाक़ात की.

इमेज कॉपीरइट goa assembly
Image caption स्वास्थ्य मंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर मुख्यमंत्री की दौड़ में आगे बताए जा रहे हैं

मुलाक़ात के बाद ही उन्होंने कहा कि यदि उन्हें मुख्य मंत्री नहीं बनाया जाता तो वो इस्तीफ़ा दे देंगे.

चालीस सदस्यीय गोवा विधानसभा में भाजपा के 21 सदस्य हैं और इनमें से छह ईसाई समुदाय के हैं जो कि डिसूजा के समर्थक हैं.

संदेश प्रभुदेसाई कहते हैं कि इन्हीं समीकरणों और इन्हीं समर्थकों के कारण फ्रांसिस डिसूजा इतने बग़ावती तेवर अपनाने की हिम्मत जुटा रहे हैं.

शनिवार को यदि विधायकों की बैठक में कोई नेता नहीं चुना जाता है तो उसके बाद ये मामला संसदीय बोर्ड पर छोड़ दिया जाएगा और संसदीय बोर्ड ही इस पर अंतिम फ़ैसला लेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार