फ़ैशन की इंस्टाग्राम से जुगलबंदी सुपरहिट

लक्मे फ़ैशन वीक, मॉडल इमेज कॉपीरइट LAKMEFASHIONWEEK

भारतीय फ़ैशन की चाल में रोज़ बदलाव आ रहा है और इस परिवर्तन और प्रस्तुतिकरण में सोशल मीडिया महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. इस कड़ी में नया नाम है, इंस्टाग्राम.

हाल के समय में हर पद्धति और कला परंपरा के फ़ैशन डिज़ाइनर्स, ब्लॉगर्स और स्टाइलिस्ट इंस्टाग्राम पर आ गए हैं ताकि उनके फॉलोअर्स की ज़िंदगियों और पसंद की झलक पा सकें.

यह सोशल नेटवर्किंग ऐप अब फ़ैशन उद्योग के लिए महत्वपूर्ण हो गया है. इसने फ़ैशन के विस्तृत मंच को एक स्मार्टफ़ोन की छोटी स्क्रीन में बदल दिया है.

यह सिलसिला कुछ साल पहले शुरू हुआ था और अब इसमें जोश नज़र आने लगा है.

इमेज कॉपीरइट Lakmefashionweek

इस साल की शुरुआत में इंस्टाग्राम ने ऐलान किया था कि उसके 20 करोड़ से ज़्यादा सक्रिय यूज़र्स हो गए हैं.

'साफ़ और सरल'

2010 में शुरू हुआ इंस्टाग्राम इस मुकाम तक सिर्फ़ साढ़े तीन साल में पहुंच गया है. यह आंकड़ा हासिल करने में फ़ेसबुक को पांच साल और ट्विटर को छह साल लगे थे.

इसके फोकस और डिज़ाइन इसे अन्य नेटवर्किंग साइट्स से अलग खड़ा करते हैं.

यह विशुद्ध रूप से तस्वीरों का मामला है इसलिए यह ऐप तुरंत फ़ैशन प्रेमियों की पसंद बन गया. सिर्फ़ तस्वीर और बहुत कम टेक्स्ट के साथ यह फ़ैशन के प्रति 'मिनिमलिस्ट एप्रोच' अपनाता है.

जो लोग इसे इस्तेमाल करते हैं उन्होंने भारतीय फ़ैशन को तनाव मुक्त, अनौपचारिक सौंदर्य को अपनाने की राह पर बढ़ाया क्योंकि इंस्टाग्राम पुते हुए फ़ैशन शूट के बजाय वास्तविक और अपनेपन को बढ़ावा देता है.

इमेज कॉपीरइट WILLSLIFESTYLE

इसका इस्तेमाल फ़ैशन घरानों और स्वतंत्र डिज़ाइनर बाज़ार के हर स्तर और क्षेत्र पर कर रहे हैं. इसे फोटो बैंक, अध्ययन सामग्री और अपने काम को प्रोसेस करने के लिए मंच के साथ ही खरीदार के पास पहुंचाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.

फ़ेसबुक और अन्य सोशल मीडिया साइट्स से हट कर इंस्टाग्राम में ब्रांडेड सामग्री और विज्ञापन नहीं होते और इसकी फ़ीड्स साफ़ और सरल होती हैं.

'त्वरित समीक्षा'

वॉग इंडिया की डिजिटल एडिटर सीता वाधवानी को लगता है कि फ़ैशन उद्योग के अंतर्निहित तत्व, व्यक्तिपूजा, को इंस्टाग्राम में स्वाभाविक रास्ता मिल जाता है.

इमेज कॉपीरइट WILLS LIFE STYLE

वह कहती हैं, "इस ऐप का इस्तेमाल कर भारतीय रचनात्मक समाज को दो चीज़ें तैयार करने का मौका मिलता है- पहला तो अपने और अपने ब्रांड के व्यक्तित्व के लिए एक तस्वीर और दूसरा इसके इर्द-गिर्द एक समूह बनाना. यह एक ऐसी चीज़ है जिसका अभी तक बहुत ज़्यादा व्यावसायिकरण नहीं हुआ है."

क्रिश्चियन डायोर कूटुर, इंडिया में मार्केटिंग और कम्यूनिकेशन्स वाइस प्रेज़िडेंट, कल्याणी साहा कहती हैं, "इंस्टाग्राम भारतीय फ़ैशन के लिए कमाल का माध्यम साबित हुआ है. यह आपको फैशन के दर्शक, खरीदार और सामान पहुंचाने वाले के रूप में जोड़ता है. फ़ोन पर एक ऐप के रूप में बेहद सुविधाजनक और आसानी से उपलब्ध है."

किसी ख़ास डिज़ाइन, कलेक्शन या कार्यक्रम पर लगातार मिलने वाली फ़ीड और प्रतिक्रियाएं त्वरित समीक्षा प्रदान करती हैं.

इमेज कॉपीरइट WILLS LIFE STYLE

#इंस्टाक्लिक, #इंस्टाग्रामर्स, #इंस्टाफ़ैशन, #इंस्टाडेली जैसे और कई अन्य हैशटैग फ़ोटोग्राफ़र्स, डिज़ाइनर्स और क्यूरेटर्स को तस्वीरों के ज़रिए जोड़ते हैं.

इंस्टाग्राम ने साबित कर दिया है कि इसने भारतीय फ़ैशन की दीवारें ढहा दी हैं. इसने फ़ैशन ट्रेंड्स, टिप्स और कॉन्सेप्ट्स को ग़ैर-फ़ैशनेबल लोगों के लिए भी उपलब्ध कर दिया है.

फ़ैशन उद्योग के अंदर और बाहर अब संवाद हो रहा है. फ़ैशन उद्योग का महत्वपूर्ण घटक रहा क्रिएटिव कंट्रोल अब ज़्यादा लोगों के हाथ में है.

इसका भविष्य उज्जवल दिखता है और इससे प्यार और गहरा होता दिखता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार