सांसद मोदी के 'आदर्श गांव' जयापुर का हाल

जयापुर गांव, वाराणसी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निर्वाचन क्षेत्र इमेज कॉपीरइट Other

सांसद आदर्श ग्राम योजना का मक़सद भारत के गांवों का विकास करना है.

योजना के तहत हर एक सांसद को अपने निर्वाचन क्षेत्र से एक गांव को चुनकर उसका विकास करना है.

सांसदों को ये लक्ष्य दिया गया है कि वे अपने संसदीय क्षेत्र के एक गांव को साल 2016 तक आदर्श गांव में विकसित करेंगे.

इसके बाद सांसदों को दो और गांवों को चुनकर अगले लोकसभा चुनाव तक उन्हें आदर्श गांव बनाना होगा.

पीएम की सीट

इमेज कॉपीरइट Other

उत्तर प्रदेश का जयापुर गांव भी इसी सिलसिले में इन दिनों सुर्खियों में है. और हो भी क्यों नहीं?

जयापुर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के अंतर्गत आता है.

जयापुर गांव मोदी की ओर से गोद लेते ही रातों-रात आम से खास बन गया है.

लेकिन सवाल उठता है कि इस बदलाव से जयापुर में क्या उम्मीदें जगी हैं?

मिड-डे मील

इमेज कॉपीरइट Other

अब तक सुख-सुविधाओं से महरूम रहे जयापुर प्राथमिक स्कूल के बच्चे अब सुधार की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

इस गांव के अखिलेश को लगता है कि आने वाले कल में वह भी प्रधानमंत्री बन सकता है.

स्कूल के बच्चे कहते हैं कि मिड डे मील के खाने का स्वाद अब बेहतर हो गया है.

2011 की जनगणना के अनुसार जयापुर में एक हजार पुरुषों पर 930 महिलाएं हैं.

लिंगानुपात

इमेज कॉपीरइट Other

गांव के 30 फीसदी लोग खेती करते हैं और 20 फीसदी खेतीहर मजदूर हैं. यहां 34.1 फीसदी आबादी कामकाजी है.

जयापुर गांव की तुलना पहले वाराणसी, फिर उत्तर प्रदेश और फिर पूरे देश से की जा सकती है.

जयापुर का लिंगानुपात उत्तर प्रदेश राज्य के लिंगानुपात से बेहतर है.

साक्षरता के मोर्चे पर जयापुर की स्थिति अपने राज्य और यहां तक कि राष्ट्रीय स्थिति से अच्छी कही जा सकती है.

साक्षरता दर

इमेज कॉपीरइट Other

उत्तर प्रदेश की साक्षरता दर 53 फीसदी है जबकि राष्ट्रीय साक्षरता दर 73 है लेकिन जयापुर की साक्षरता दर 76 फीसदी है और इस गांव के 100 पुरुषों पर 62 महिलाएं लिखना पढ़ना जानती हैं.

जयापुर गाँव की प्रधान दुर्गा देवी केवल कक्षा आठ तक पढ़ी हैं, लेकिन अब वो गाँव को आदर्श ग्राम बनाने के लिए लोगों को मिल-जुल कर सफाई करने और लड़कियों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित कर रही हैं.

जयापुर का भला

इमेज कॉपीरइट Other

यहां के निवासी खिलावन को आदर्श ग्राम बनने की बात तो नहीं पता पर उन्हें ख़ुशी होगी अगर बरसात में गली में पानी भरना बंद हो जाए.

इस गांव में अब भी लोग पीने के लिए कुँए का पानी इस्तेमाल करते हैं. पड़ोस के चंदापुर गाँव की रहने वाली बदामा देवी खेत में मजदूरी करती हैं.

वह बताती हैं कि उनके गाँव में भी पानी का नल नहीं है लेकिन नरेंद्र मोदी तो सिर्फ जयापुर का ही भला सोच रहे हैं.

मानिकपुर गाँव की चमेली देवी को आदर्श ग्राम योजना का नहीं पता पर प्रधानमंत्री से उन्हें उम्मीद है कि वो उनका घर बनवा देंगे.

पक्के घर

इमेज कॉपीरइट Other

चांदपुर गाँव की रधिया को अपना गाँव न चुने जाने का दुख है और उन्हें लगता है कि उनके गाँव में अब कुछ नहीं होगा.

जयापुर गाँव में सोलर लाइट है पर लोगों को लगता है कि अब बिजली 24 घंटे आएगी.

मोदी के स्वच्छ भारत अभियान की झलक जयापुर के बच्चों में देखने को मिली. समरजी देवी को उम्मीद है कि अब गांव के घर पक्के हो जाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार