शाही इमाम के बेटे की ताजपोशी

  • 22 नवंबर 2014
दस्तारबंदी इमेज कॉपीरइट AP

विवादों के बीच जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी के बेटे शाबान बुखारी को नायब इमाम घोषित कर दिया गया.

अहमद बुखारी ने दस्तारबंदी की रस्म के ज़रिए अपने 19 वर्षीय बेटे को नायब इमाम बनाया.

हालाँकि कई संगठनों ने अहमद बुखारी के अपना उत्तराधिकारी चुनने के हक़ को लेकर सवाल भी उठाए थे.

यह मामला हाईकोर्ट भी पहुंचा था, लेकिन शुक्रवार को अदालत ने दस्तारबंदी कार्यक्रम पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था. हालाँकि अदालत ने ये ज़रूर कहा था कि दस्तारबंदी कार्यक्रम की कोई क़ानूनी मान्यता नहीं है.

वक्फ़ बोर्ड से टकराव

दस्तारबंदी की रस्म के दौरान अहमद बुखारी ने कहा, "मैं शाबान बुखारी को जामा मस्जिद का नायब इमाम घोषित करता हूं. मैं उम्मीद करता हूं कि वे उम्मीदों पर ख़रा उतरेंगे."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption जामा मस्जिद को भारत की सबसे पुरानी और ऐतिहासिक मस्जिद माना जाता है

अहमद बुखारी ने कहा कि वक़्फ़ बोर्ड को जामा मस्जिद के मामलों में दखल देने का कोई हक़ नहीं है.

जामा मस्जिद की दस्तारबंदी पिछले कुछ समय से सुर्खियों में रही है. अहमद बुखारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दस्तारबंदी समारोह का न्यौता नहीं भेजा था, जबकि गृह मंत्री राजनाथ को इस समारोह के लिए आमंत्रित किया गया था.

ये अलग बात है कि इस समारोह में राजनाथ सिंह भी नहीं पहुंचे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार