'औरतों को अकेले क्यों लड़ना पड़ता है'

राजेश कुमार के साथ पूजा और आरती
Image caption अपने पिता राजेश कुमार के साथ पूजा और आरती.

रोहतक 'छेड़छाड़' मामले का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर भी प्रतिक्रियाओं की भरमार हो गई है.

वीडियो में सोनीपत ज़िले की रहने वाली पूजा और आरती नाम की दो बहनें कथित तौर पर उनके साथ छेड़खानी करने वाले तीन युवकों की बेल्ट से पिटाई कर रही हैं.

जहां इन दोनों लड़कियों की तारीफ़ हो रही है वहीं बस में मौजूद बाक़ी लोगों के चुपचाप बैठने की भी लोग तीखी आलोचना कर रहे हैं.

सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया

इमेज कॉपीरइट YOU TUBE

कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल: मैं दोनों लड़कियों को बहादुरी के लिए सलाम करता हूं. जिन्होंने हिम्मत से सबक सिखाया. अफ़सोस कि बस में मौजूद बाक़ी लोगों में किसी ने भी उनकी मदद नहीं की.@MPNaveenJindal.

फ़िल्मकार अशोक पंडित: रोहतक की इन दो मासूम लड़कियों को सलाम जिन्होंने अच्छाई के लिए लड़ाई लड़ी.@ashokepandit

टीवी कलाकार अनूप सोनी: लड़कियां छेड़छाड़ करने वालों की पिटाई करती रहीं और बाकी यात्री मूक दर्शक बने बैठे रहे.@Anupsonicp

पल्लवी बरुआ: औरतों को अपने हक़ की लड़ाई अकेले क्यों लड़नी पड़ती है. @Pallavi(Ruby) Baruah

‏‏श्वेता शालिनी: लड़कियों ने लड़ना आख़िर सीख ही लिया. इन लड़कों को तो कानून सबक सिखाएगा. लेकिन मूक दर्शक बने प्रत्यक्षदर्शियों का क्या. वो आख़िर कब जागेंगे.@shweta_shalini

शैलजा: ये एक शर्मनाक घटना है, मोदी सर आपको इसे देखना चाहिए.@Snghmitrashail

अमिताभ सहाय: रोहतक की बेटियों को सैल्यूट करना चाहिए. इससे प्रत्येक लड़की को प्रेरणा लेनी चाहिए.@amitabh_69

‏‏(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार