मोदी राज में चमकेगा 'रावण का गाँव'!

गुरु द्रोण का मंदिर इमेज कॉपीरइट NARENDRA KAUSHIK

दिल्ली और आगरा को जोड़ने वाली सड़क ताज एक्प्रेसवे पर डंकापुर गांव के लोग हिंदू मिथक 'महाभारत' के एक किरदार द्रोण के चलते टूरिज्म के नक्शे पर आने को बेताब हैं.

इसी तरह के सपने नज़दीक ही मौजूद बिसरख गांव भी देख रहा है. इस गांव वालों का कहना हैं कि रावण इनके गांव का था.

केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री महेश शर्मा की चली तो ऐसा हो ही जाएगा. शर्मा स्थानीय सांसद हैं.

पढ़िए पूरी रिपोर्ट

इमेज कॉपीरइट NARENDRA KAUSHIK

माना जाता है कि डंकापुर में स्थित पुराना मंदिर पांडव और कौरव भाईयों के गुरु द्रोणाचार्य का है और उसके पास ही एक तालाब भी है.

ऑर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने इन दोनों ही संरचनाओं को संरक्षित स्मारक का दर्जा दे दिया है.

द्रोण का डंकापुर

इमेज कॉपीरइट NARENDRA KAUSHIK

मिथकों के अनुसार द्रोणाचार्य ने पांडवों और कौरवों को डंकापुर में ही युद्ध कला का प्रशिक्षण दिया था और द्रोण के इनकार के बाद भील बालक एकलव्य ने धनुर्विद्या भी अपने बल पर यहीं सीखी थी.

आगरा सर्किल के सुप्रीटेंडिंग ऑर्कियोलॉजिस्ट एनके पाठक ने बीबीसी से इस बात की पुष्टि की है कि दसवीं और 11वीं सदी के इन स्मारकों के जीर्णोद्धार के लिए काम किया जा रहा है.

इस मंदिर के कई हिस्से द्रोणाचार्य, उनके बेटे अश्वत्थामा, कृष्ण, एकलव्य और अन्य पौराणिक पात्रों को ख़ास तौर पर समर्पित किए गए हैं.

रावण जन्मभूमि

इमेज कॉपीरइट NARENDRA KAUSHIK

डंकापुर की तरह ही पश्चिमी ग्रेटर नोएडा का बिसरख गांव पौराणिक पात्र रावण से अपने संबंधों पर इतरा रहा है.

कहा जाता है कि मिथकों में लंकाधीश रावण इसी गांव में श्रृषि विश्ररवा और उनकी पत्नी केकैसी से पैदा हुए थे.

विश्ररवा ने यहां शिव का एक मंदिर बनवाया था जो अब बिसरख धाम के नाम से जाना जाता है. यह मंदिर गांव के बाहर है.

शिव लिंग

पौराणिक मान्यता है कि श्रृषि विश्ररवा को दक्षिणा में लंका का राज्य मिला था. बिसरख धाम के दिन तब से फिर गए.

इस मंदिर के गर्भ गृह में मौजूद आठ कोनों वाले भूरे रंग के शिव लिंग के बारे में कहा जाता है कि श्रषि विश्ररवा ने इसे खुद ही स्थापित किया था.

इमेज कॉपीरइट NARENDRA KAUSHIK

गांव वाले कहते हैं कि शिवलिंग के दस फीट लंबा है. हांलाकि बाहर केवल दो फ़ीट आठ फीट ही दिखाई देता है बाकी उनके हिसाब से ज़मीन के नीचे धंसा हुआ है.

रावण से रिश्ते के बिसरख के गांववालों के दावे को समर्थन देने के लिए एएसआई के पास कोई सबूत नहीं है.

लेकिन इसके बावजूद बिसरख के लोगों का यकीन बरकरार है और वे इस मिथक के प्रसार में लगे भी रहते हैं. यहां के लोग अपनी गाड़ियों के पिछले शीशे पर रावण का नाम लिखते हैं.

आज तक बिसरख के लोगों ने रावण के सम्मान में दशहरा नहीं मनाया. अतीत में रावण दहन के दौरान एक लड़के की मौत हो जाने से लोगों ने इस रिवाज़ को छोड़ ही दिया है.

यहां तक कि बिसरख के लोग रामलीला का मंचन भी नहीं करते हैं.

ज़मीन की मांग

इमेज कॉपीरइट PIB

गांव वाले रावण का मंदिर भी बनाना चाहते हैं. पिछले साल बिसरख के ग्राम प्रधान अजय भाटी ने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी को चिट्ठी लिखकर मंदिर के लिए ज़मीन देने की मांग की थी.

पर्यटन मंत्री का कहना है कि उनकी इच्छा द्रोण के मंदिर, रावण के गांव को घरेलू सैलानियों से जोड़ने की है.

महेश शर्मा की योजना अपने निर्वाचन क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय टूरिस्ट सर्किट बनाने की है जिसे वे दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर और नोएडा के दलित प्रेरणा स्थल, बोटनिकल गार्डेन, शहीद स्मारक से जोड़ना चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार