हरियाणा में कई कश्मीरी छात्र घायल

घायल कश्मीरी छात्र इमेज कॉपीरइट Vinod Dhiman

पुलिस के अनुसार हरियाणा के यमुनानगर में एक इंजीनियरिंग कॉलेज में भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के छात्रों के दो गुटों के बीच हुई झड़प में कई छात्र घायल हो गए हैं.

घटना शनिवार को यमुनानगर के रादौर स्थित ग्लोबल रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में हुई.

उधर, छात्रों का कहना है कि गुटों के झड़प के बाद स्थानीय लोगों ने उन पर हमला किया.

बीबीसी हिंदी ने पुलिस और कॉलेज के छात्रों से बात की, पढ़िए उनका क्या कहना था.

यमुनानगर के पुलिस अधीक्षक वेद प्रकाश

हिंसा शनिवार को दोपहर एक बजे कैंटीन में हुए एक विवाद से शुरू हुई, जिसमें कम से कम चार छात्र घायल हो गए हैं जिनका इलाज चल रहा है.

छात्रों की शिकायत के बाद मामला दर्ज कर लिया गया है. छात्रों के बयान भी लिए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट
Image caption हिंसा के बाद कॉलेज में पुलिस तैनात कर दी गई है.

घटना में बाहर के लोग शामिल नहीं थे. ये छात्रों के बीच का मसला था.

कॉलेज में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है और कश्मीरी छात्रों को पूरी सुरक्षा दी जा रही है.

इस घटना को मीडिया सांप्रदायिक रंग दे रहा है, लेकिन ऐसा नहीं है. मामला पूरी तरह शांत हो चुका है. स्थिति नियंत्रण में हैं. मैं ख़ुद कॉलेज में मौजूद हूँ. कॉलेज में छुट्टियों के कारण कुछ छात्र कश्मीर लौट रहे हैं.

अस्पताल में भर्ती कश्मीरी छात्र अज़हरउद्दीन और मशहूर

बाहर से आए लोगों ने हम पर हमला किया. उनमें से कुछ के पास देसी हथियार भी थे. हम बचने के लिए पुलिस स्टेशन की ओर भागे. तीन किलोमीटर के रास्ते में हमें कई जगह पीटा गया. किसी तरह हम पुलिस स्टेशन पहुँचे और बच सके.

कैंटीन में हुआ मामला निपट गया था. यदि बाहर से लोग नहीं आते तो बात इतनी नहीं बढ़ती. दोनों ओर से नारेबाज़ी के कारण विवाद हुआ.

हिंसा में क़रीब दस कश्मीरी छात्र घायल हुए हैं. हमले के बाद से हम सब बहुत डरे हुए हैं और वापस घाटी लौटना चाहते हैं. यदि हमें कोई सुरक्षित कैंपस मिलेगा तब ही हम सब आगे पढ़ेंगे.

अस्पताल में भर्ती कश्मीरी छात्र आशीष

इमेज कॉपीरइट Vinod Dhiman

जम्मू-कश्मीर के हिंदू और मुसलमान छात्रों के बीच कैंटीन में विवाद हुआ था. दोनों और से नारेबाज़ी भी हुई.

नारेबाज़ी सुनकर बाहर के लोग आ गए और उन्होंने कश्मीरी छात्रों पर हमला किया.

मैं आगे अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहता हूँ. कश्मीर के छात्रों से हमारे अच्छे संबंध हैं.

पहले भी हुए हैं हमले

उत्तर भारत के कॉलेजों में कश्मीरी छात्रों पर कथित हमलों के और भी मामले दर्ज हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट
Image caption ग्लोबल रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में पढ़ने वाले ज़्यादातर छात्र जम्मू-कश्मीर के है.

इसी साल मार्च में दिल्ली के निकट मेरठ शहर में स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय में टेलीविज़न पर भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच के दौरान कुछ कश्मीरी छात्रों पर कथित तौर पर पाकिस्तान का समर्थन करने का आरोप लगा था.

विश्वविद्यालय प्रशासन ने 67 कश्मीरी छात्रों को सस्पेंड कर दिया गया था. इन छात्रों पर देशद्रोह का मुक़दमा भी दर्ज हुआ, लेकिन बाद में इसे वापस ले लिया गया.

मार्च में ही नोएडा स्थित शारदा विश्वविद्यालय में भी इसी तरह की कथित घटना में कुछ कश्मीरी छात्रों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार