इटली से आया यह राम...

इतालवी रामलीला इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

दिल्ली में पिछले दिनों एक ऐसी रामलीला देखने को मिली जिसमें ऑपेरा के साथ कई भारतीय नृत्य-गायन शैलियां शामिल थीं.

दिल्ली में आयोजित पाँचवें अंतरराष्ट्रीय पौराणिक कला महोत्सव में विश्व के पांच देशों से 100 से ज़्यादा कलाकार शामिल हुए.

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

इटली के अलावा भारत के कई राज्यों से भी आए फ़नकारों ने इस महोत्सव को अनोखा अनुभव बनाया.

गाते हुए नाटक को परफॉर्म करने की कला को ऑपेरा कहते हैं. इसका जन्म 15वी शताब्दी में इटली के फ़्लोरेंस शहर में हुआ. अब इसमें हिंदुओं की पौराणिक कथा रामायण का मंचन किया गया.

'भारतीय, इतालवी संगीत'

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

योगिनी बिजोयलक्ष्मी होता ने सात महीने पहले रंगों और साज़ों से सजी इस रामलीला को बनाने के बारे में सोचा था.

वह कहती हैं, "ऑपेरा ने मेरा दिल छू लिया था. उसी तरह रामायण हमारे दिल को कई तरह से छूती है और इन दोनों को एक साथ लाना एक अलग अनुभव था."

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

इस रामलीला में बिजोयलक्ष्मी होता की बेटी रीला होता सीता के रूप में दिखीं. पेशेवर ओडिसी नृत्यांगना रीला इस रामलीला की क्रिएटिव डायरेक्टर भी थीं.

उनका कहना है, "रामलीला को ऑपेरा के अंदाज़ में दिखा कर हमने यह साबित कर दिया कि रामायण को देखने और जानने के लिए भाषा और बोली की ज़रूरत नहीं."

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

इस रामलीला में इटली के संगीतकार अन्तोनिओ कोकोमाज़ी ने संगीत दिया. वह स्टेज पर चल रही रामलीला के दौरान अपने सिम्फ़नी ग्रुप के साथ मिलकर कलाकारों के सुरों से ताल मिला रहे थे.

इसी मंच पर भारत के अलग-अलग वाद्यों का भी समागम दिखा. इस रामलीला में भारतीय संगीत दिया पंडित राजन-साजन मिश्रा ने.

'यक्षगान'

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

इस मंचन की ख़ास बात यह थी कि राम और लक्ष्मण के संवाद तो इटालियन ऑपेरा में गाए जाते लेकिन सीता अपनी बात गाकर नहीं बल्कि नृत्य और अदाओं के सहारे समझाती.

इस रामलीला में दैत्यों और रावण के रूप को दिखने के लिए- कर्नाटक की नाट्य शैली यक्षगान का प्रयोग किया गया.

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

यक्षगान मिश्रण है संगीत, नृत्य और नाटक का. इसमें कलाकार बड़े बड़े मुकुट और कपड़ों के साथ दिखते हैं, जिसमें मेकअप काफ़ी किया जाता है.

रामायण में जैसे जीव-जन्तुओं का अहम रोल था वैसे ही इस ऑपेरा स्टाइल रामलीला में भी बंदरों, हिरन और गरुड़ को दिखाया गया. कलाकारों को जानवरों की वेशभूषा पहने मंच पर देखा गया.

इमेज कॉपीरइट Vaibhav Dewan

वाल्मीकि की रामायण को इटालियन रूप देने वाले डायरेक्टर मार्को पुची काटेना का कहना है कि उन्होंने रामायण के बारे में काफ़ी अध्ययन किया और उसके बारे में पढ़ने के बाद ही वो इसे ये रूप दे पाए.

हनुमान के रूप में इटालियन कलाकार फ़ेडरिको बनेति केसरी गमछा और ब्रह्मचारी रूप में दाढ़ी के साथ दिखे. इस रामलीला को जल्द ही विश्व के अन्य देशो में भी लेकर जाने की योजना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार