19 साल जेल में रहने के बाद दोषमुक्त पर...

कश्मीर फ़ारूक़ अहमद ख़ान इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक़ भारत की जेलों में क्षमता से काफ़ी ज़्यादा क़ैदियों को रखा गया है और इनमें से अधिकतर विचाराधीन क़ैदी ही हैं.

विचाराधीन क़ैदियों पर बीबीसी हिन्दी की विशेष सिरीज़ में कहानी कश्मीर के उन युवाओं की जिनकी ज़िंदगी के बेशकीमती साल जेलों में गुज़र गए.

भारत प्रशासित कश्मीर में आतंकवादी होने के शक में पकड़े गए कई नौजवान बाद में बेकसूर साबित हुए, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी.

इमरान किरमानी

इमेज कॉपीरइट Imran Kirmani

भारत प्रशासित कश्मीर के हंदवाड़ा इलाक़े के रहने वाले 34 वर्षीय इमरान किरमानी को 2006 में दिल्ली पुलिस की एक विशेष सेल ने राजधानी के मंगोलपुरी इलाक़े से गिरफ़्तार किया था.

इमरान पर आरोप था कि वह दिल्ली में आत्मघाती हमला करने की योजना बना रहे थे. मगर पौने पांच साल बाद अदालत ने इमरान को सभी आरोपों से बरी कर दिया.

इमरान ने जयपुर से 'एयरक्राफ्ट मैकनिकल' इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है. जब उन्हें दिल्ली में गिरफ़्तार किया गया तो वो एक निजी कंपनी में नौकरी कर रहे थे.

जेल में बिताए अपने जीवन के पांच सालों को याद करते हुए वह कहते हैं, "बरी तो अदालत ने कर दिया लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि मेरे पाँच साल, जो जेल में बीत गए उन्हें कौन वापस करेगा?"

इमरान को इस बात का भी काफ़ी सदमा है कि जिस वक़्त वह अपना भविष्य बनाने निकले थे, उसी वक़्त उन्हें जेल में डाल दिया गया और वह भी बिना किसी कसूर के.

इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

वह कहते हैं, "जो मेरे साथ पढ़ाई करते थे, काम करते थे वे आज बहुत तरक़्क़ी कर चुके हैं. मैं भी करता लेकिन, मेरा क़ीमती समय जेल में ही बर्बाद हो गया."

इमरान अब अपने गाँव में एक स्कूल में पढ़ाते हैं.

उन्हें सरकार से किसी मदद की उम्मीद नहीं है और न ही वह इसके लिए सरकार के पास जाने के लिए तैयार हैं.

फारूक़ अहमद ख़ान

हाल ही में इंजीनियर फारूक़ अहमद ख़ान को भी 19 साल बाद अदालत ने सभी आरोपों से बरी कर दिया है. ख़ान पर भी दिल्ली में विस्फोट करने की योजना बनाने का आरोप लगा था.

अनंतनाग के रहने वाले फ़ारूक़ को स्पेशल टास्क फोर्स ने 23 मई 1996 को उनके घर से गिरफ़्तार किया था.

गिरफ़्तारी के वक़्त 30 साल के फ़ारूक़ पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग महकमे में जूनियर इंजीनियर के पद पर काम करते थे.

इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

दिल्ली हाई कोर्ट ने चार साल बाद उन्हें लाजपत नगर विस्फोट मामले से बरी कर दिया था लेकिन उसके बाद उन्हें जयपुर और गुजरात में हुए बम धमाकों के मामले में जयपुर सेंट्रल जेल में रखा गया.

जयपुर के एडिशनल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने भी उन्हें रिहा करने का आदेश दिया और उनके ख़िलाफ़ लगाए गए सभी आरोपों को ख़ारिज कर दिया.

ज़िंदगी के 20 साल खोने के अलावा फ़ारूक़ को अपने मुक़दमे के ख़र्च के तौर पर एक मोटी रकम भी गंवानी पड़ी.

उनका कहना है कि दिल्ली में मुक़दमे के खर्च में 20 लाख रुपए लगे, जबकि जयपुर में 12 लाख रुपए का ख़र्च उठाना पड़ा.

वह कहते हैं कि 2000 में जब उनके पिता का निधन हुआ तो उन्हें पैरोल पर भी नहीं छोड़ा गया.

इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

फ़ारूक़ की मां कहती हैं, “जिस दिन फ़ारूक़ के अब्बा ने बेटे की जेल की तस्वीर देखी थी तो उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई. अब बेटा तो घर आ गया लेकिन उसके खोए हुए 19 साल कौन लौटाएगा.”

मक़बूल शाह

भारत प्रशासित कश्मीर के श्रीनगर के लाल बाज़ार के रहने वाले मक़बूल शाह साल 2010 में 14 साल बाद जेल से रिहा हुए तो उन्हें लगा कि उन्हें एक नई ज़िंदगी मिल गई है.

उन्हें भी दिल्ली में विस्फोट का षड्यंत्र रचने के आरोप में 1996 में गिरफ्तार किया गया था. उस वक़्त उनकी उम्र सिर्फ 14 साल थी.

मक़बूल को भी अदालत ने आरोपों से बरी कर दिया.

मगर मक़बूल को लगता है कि जिन लोगों ने उन्हें फ़र्ज़ी मुक़दमे में फंसाया था उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

वह कहते हैं, "समाज में ज़िंदगी गुज़ारनी मुश्किल हो गई है. हर कोई समझता है कि मैं आतंकवादी हूं क्योंकि मैं 14 साल तक जेल में रहा. कोई नहीं मानता कि मैं बेगुनाह हूँ. मेरे पास अब कुछ नहीं बचा है. अब अपनी बेगुनाही का सबूत किसको दूं और कैसे दूं?"

उन्हें अफ़सोस इस बात का है कि जब वह जेल से बाहर आए थे तो राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने उन्हें यक़ीन दिलाया था कि वह उनके लिए कुछ न कुछ करेंगे. मगर कुछ भी नहीं हुआ और उनके पुनर्वास के लिए किसी ने पहल तक नहीं की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार