'दुख की इस घड़ी में हम साथ हैं'

भारत में पेशावर हमले की निंदा और स्कूली बच्चों का मौन इमेज कॉपीरइट EPA

भारतीय संसद में पाकिस्तान के एक स्कूल पर हुए तालिबानी हमले में मारे गए लोगों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा गया.

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी शोक व्यक्त करते हुए हमले की कड़ी निंदा की है.

भारत के कई स्कूलों में बच्चों ने मृतकों से संवेदना व्यक्त करने के लिए दो मिनट का मौन रखा.

इमेज कॉपीरइट AFP

नरेंद्र मोदी ने इस घड़ी में पाकिस्तान के साथ 'एकजुटता प्रकट करते' हुए कहा, "भारत के लोग पाकिस्तान के शोक में डूबे हुए परिजनों के साथ हैं."

मोदी ने एक ट्वीट में कहा, "चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ाई में भारत पाकिस्तान के साथ मज़बूती के साथ खड़ा है. हमने पाकिस्तान से कहा है कि दुख की इस घड़ी में हम हर तरह की मदद करने को तैयार हैं."

इमेज कॉपीरइट EPA

मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ को मंगलवार की शाम फोन कर अपनी संवेदना व्यक्त की थी.

प्रदर्शन

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार पश्चिम भारत के बड़ौदा में मुंह पर काली पट्टी बांधे हुए बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों ने "आतंकवाद रोको" की तख्तियों के साथ प्रदर्शन किए.

राहुल नाम के एक छात्र ने बताया, "हम पेशावर में स्कूल पर हुए तालिबान के हमले का विरोध करते हैं. हमें इस हमले का बेहद दुख है क्योंकि हम भी छात्र हैं."

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर पाकिस्तान के साथ एकजुटता जाहिर की है.

राहुल ने कहा, "दुख की इस घड़ी में हम उनके साथ हैं."

कुछ भारतीय शहरों में मंगलवार की शाम पाकिस्तान में मारे गए लोगों के सम्मान में मोमबत्ती मार्च निकाले गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार