घाटी में भाजपा की जीत या हार?

 महिलाएँ, जम्मू, चुनाव इमेज कॉपीरइट AFP

जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव नतीजे में सबसे पहली जीत भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के जम्मू क्षेत्र के हीरानगर के उम्मीदवार ने दर्ज की.

लेकिन जब श्रीनगर की डल झील के किनारे बने श्रीनगर के शेरे कश्मीर कंवेंशन सेंटर में इस ख़बर की घोषणा हुई तो वहां मौजूद लोगों में बहुत ताज्जुब नहीं नजर आया.

लोग शायद इस बात के लिए ज़हनी तौर पर तैयार थे कि पार्टी भारत प्रशासित सूबे में इस बार बेहतर प्रदर्शन करेगी.

हालांकि भाजपा घाटी में एक भी सीट हासिल नहीं कर पाई है बल्कि अमीराकदल में उसकी उम्मीदवार हिना भट्ट को महज 1359 वोट हासिल हुए हैं.

वहां से पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के अलताफ़ बुख़ारी जीत गए हैं.

लोगों की राय

इमेज कॉपीरइट AP

इन परिणामों को कई लोग कई तरह से पेश कर रहे हैं. कोई ये कह रहा है कि घाटी के लोगों ने 'सांप्रदायिक' भाजपा को रिजेक्ट कर दिया है.

तो कुछ का कहना है कि जिन लोगों ने हिना भट्ट को वोट दिया वो भी तो मुसलमान थे. इस तरह पार्टी सूबे के कश्मीर क्षेत्र में भी घुसने में कामयाब हो गई है.

पार्टी को जो भी सीट मिली हैं वो जम्मू क्षेत्र से हैं. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि राज्य में पार्टी का प्रदर्शन बहुत बढ़िया रहा है. वो अब तक दूसरे नंबर पर दिख रही है.

उधर पीडीपी सीटों के मामले में सबसे उपर है. उसके मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार मुफ़्ती मोहम्मद सईद अनंतनाग की अपनी सीट जीत गए हैं.

लेकिन सूबे में जिस उम्मीदवार को भाजपा के बाद जीता हुआ घोषित किया गया वो पीडीपी से नहीं बल्कि नेशनल कांफ्रेस से था.

अली मोहम्मद सागर ने जीत के बाद कहा कि जनता ने जो फैसला किया है वो सर आंखों पर होगा.

बहुमत किसी को नहीं

इमेज कॉपीरइट AP

सोमवार को बुलाई गई एक प्रेस कांफ्रेस में मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने कहा था कि किसी भी दल को पूरा बहुमत नहीं मिलेगा.

इस मामले में उनकी भविष्यवाणी सच साबित हुई है. हालांकि वो श्रीनगर के सोनावर से चुनाव हार गए हैं. हालांकि वे बीरवाह से चुनाव जीतने में कामयाब रहे.

कंवेंशन सेंटर के सामने मौजूद समर्थक पार्टी के उम्मीदवार की जीत पर नारे लगा रहे हैं.

हालांकि श्रीनगर में इस वक़्त तापमान दो डिग्री है लेकिन उससे समर्थकों का उत्साह कम नहीं हुआ है.

भाजपा के समर्थक पटाख़ों के साथ मौजूद हैं. पार्टी के बढ़िया प्रदर्शन के नाम पर समर्थक पटाख़ों के साथ जश्न मना रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार