तस्वीरेंः असम में हिंसा के बाद का मंज़र

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम में मंगलवार को बोडो चरमपंथियों के आदिवासियों पर हुए हमलों और जवाबी हिंसा में मरने वालों की कम से कम 76 हो चुकी है.

पुलिस ने हमलों के लिए नेशनल डेमोक्रेटिक फ़्रंट ऑफ़ बोडोलैंड(एनडीएफबी) को ज़िम्मेदार ठहराया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हिंसा के कारण बड़ी संख्या में लोगों का पलायन हुआ है. आम लोगों ने चर्च और स्कूल की इमारतों में पनाह ले रखी है.

एनडीएफबी बोडो समुदाय के लिए असम में स्वतंत्र होमलैंड की मांग करता है. मंगलवार को हुए हमलों में ग़ैर-बोडो, खासकर आदिवासियों को निशाना बनाया गया.

बताया जा रहा है कि असम के सोनितपुर और कोकराझार ज़िले में हए हमलों में महिलाएँ और बच्चे विशेषकर शिकार हुए हैं. मारे और घायल लोगों में से ज़्यादातर वो आदिवासी हैं जो स्थानीय चाय के बागानों में काम करते हैं. घटना के बाद बहुत से आदिवासी अपना घरबार छोड़कर सुरक्षित ठिकानों के लिए जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

क्रोधित आदिवासियों ने हमलों के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन किया. बुधवार को पुलिस ने सोनितपुर में एक पुलिस थाने को घेरने वाले आदिवासियों के एक समूह पर गोली चलाई थी जिससे तीन आदिवासियों की मौत हो गई.

सोनितपुर के एक स्कूल में क़रीब 200 आदिवासियों ने शरण ले रखी है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हमले में बच गए गाँववालों ने बताया कि हथियारबंद विद्रोही पैदल ही आए और उनके घरों के दरवाज़ों को ज़बरदस्ती खोलकर गोलियाँ चलाने लगे. कुछ गाँववालों को उनके घरों में बाहर निकालकर गोली मारी गई.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सोनितपुर ज़िले के समुकजुली गाँव स्थित एक चर्च में क़रीब 100 लोगों ने पनाह ले रखी है. इनमें ज़्यादातर औरतें और बच्चे हैं. सोनितपुर में कम से कम 37 लोग मारे गए हैं जिनमें 10 महिलाएँ थीं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बोडो लोगों पर हुए जवाबी हमलों के बाद से हिंसा के बढ़ने की भी आशंका जताई जा रही है. इलाक़े में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए सैन्य बलों की तैनाती की गई है.

ख़बरों के अनुसार कारीगाँव नामक गाँव में आदिवासियों ने कुछ बोडो लोगों की हत्या कर दी है. कुछ बोडो लोगों के घरों पर भी हमले भी हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पिछले कुछ सालों में असम में नस्ली हिंसा की कई घटनाएँ हो चुकी हैं.

राज्य में कई विद्रोही समूह भारत की केंद्रीय सरकार के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रहे हैं. ये समूह अपने समुदाय के लिए स्वायत्ता और स्वतंत्रत होमलैंड की माँग करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार