सीरिया के लिए सबसे ख़तरनाक साल

  • 1 जनवरी 2015
सीरिया, खतरनाक, इमेज कॉपीरइट AP

सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि सीरिया में बीते साल 76 हज़ार से ज़्यादा लोग मारे गए. इन आंकड़ों के आधार पर कह सकते हैं कि 2011 में शुरू हुए संघर्ष ने पिछले साल सीरिया को सबसे ज़्यादा लहूलुहान किया.

सीरिया में मानवाधिकारों पर नज़र रखने वाले ब्रिटिश संगठन द सीरियन ऑब्ज़र्वेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स का कहना है कि मारे गए लोगों में क़रीब 25 फ़ीसदी आम नागरिक हैं.

इनके अलावा सरकारी सेना के सदस्य, विद्रोही लड़ाके और जिहादी गुटों के चरमपंथी मरने वालों में शामिल हैं.

30 लाख शरणार्थी

इमेज कॉपीरइट Reuters

सीरिया की जंग ने 30 लाख से ज़्यादा लोगों को बेघर भी किया है. ये लोग जंग से बचने के लिए भाग कर सीरिया की सीमाओं के पार चले गए.

सीरिया में हर दिन घर छोड़ कर भागने पर मजबूर लोगों की तादाद दूसरे विश्व युद्ध में पेश आए शरणार्थी संकट के बाद सबसे ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट AP

संयुक्त राष्ट्र के दर्ज किए आंकड़े बताते हैं कि 2012 की शुरुआत से ही सीरिया के पड़ोसी देशों की ओर शरणार्थियों का सैलाब आ गया.

सीरिया में विरोधी गुटों ने राष्ट्रपति बशर अल-असद को सत्ता से हटाने की मांग के साथ प्रदर्शन शुरू किया था. यही संघर्ष अब फैल कर गृहयुद्ध की शक्ल ले चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार