गुरमीत राम रहीम की 'रहस्यमयी दुनिया'

इमेज कॉपीरइट Narender Kaushik

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख 47 वर्षीय गुरमीत राम रहीम इन दिनों अपनी फ़िल्म एमएसजी(मैंसेंजर ऑफ गॉड) और अपने आश्रम की निजी सेना को प्रशिक्षण देने के मुद्दे को लेकर चर्चा में हैं.

राम रहीम इससे पहले भी विभिन्न विवादों के कारण चर्चा में रहे हैं.

गुरमीत राम रहीम पर सीबीआई ने दो हत्याओं में आरोप पत्र दाखिल किया है. वहीं पंचकुला की सीबीआई अदालत में उनपर दो साध्वी के साथ बलात्कार का मामला चल रहा है. इन मामलों में अभी सुनवाई चल रही है.

राम रहीम के व्यक्तित्व और धर्मगुरु के तौर पर कारोबारी साम्राज्य की पड़ताल.

पढ़ें रिपोर्ट विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

गुरमीत राम रहीम पर अदालत में हत्या, बलात्कार और जबरन नसबंदी कराने का मामला चल रहा है.

नसबंदी के मामले में प्रशासन ने अदालत के आदेश के बाद सात लोगों की चिकित्सीय जांच कराकर पाया कि उनकी नसबंदी हुई थी.

जनहित याचिका दाखिल करने वाले हंसराज चौहान के मुताबिक गुरमीत राम रहीम के निर्देश पर चार सौ लोगों की जबरन नसबंदी हुई. सीबीआई इस मामले की भी जांच कर रही है.

इन गंभीर आरोपों के अलावा हाई कोर्ट ने सिरसा ज़िला प्रशासन को गुरमीत राम रहीम के आश्रम में हथियार होने की जांच करने को कहा था. पिछले सप्ताह ही पुलिस अधिकारियों ने डेरा सच्चा सौदा की तलाशी ली, लेकिन तलाशी में क्या मिला इसपर पुलिस ने कुछ भी नहीं कहा है.

गुरमीत राम रहीम उनपर लगे आरोपों को अपने ख़िलाफ़ षडयंत्र बताते हैं. उनके मुताबिक उनके अभियानों के चलते ड्रग्स, मांस और वेश्यावृति का कारोबार करने वाले लोगों को नुकसान पहुंचता रहा है और वे लोग गुरमीत राम रहीम के ख़िलाफ़ षड्यंत्र कर रहे हैं.

बाबा का चमत्कार

इमेज कॉपीरइट www.derasachasauda.org

डेरा सच्चा सौदा के दावे के मुताबिक उनके किडनी दान, रक्त दान और नेत्र दान जैसे कई कार्यक्रमों ने बीते एक दशक में गिनीज और लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में जगह बनाई है.

गुरमीत राम रहीम और उनके समर्थक फिल्म एमएसजी के बारे में संवाददाताओं को ज्यादा सवाल भी नहीं पूछने देते. ये फिल्म गुरमीत राम रहीम को सुपर बाबा के तौर पर दर्शाती है जो अकेले दम पर ड्रग्स और वेश्वावृति का कारोबार करने वाले गुंडों का सफाया कर देता है.

गुरमीत राम रहीम के मुताबिक ये फिल्म ड्रग्स और वेश्यावृति के ख़िलाफ़ है. बाबा अपनी फ़िल्म के हीरो, निर्माता-निर्देशक, गीतकार, गायक, संगीतकार हैं. फ़िल्म 16 जनवरी को रिलीज़ हो रही है.

इस फिल्म का सीक्वल भी जल्द लाने की तैयारी है. एमएसजी पार्ट-2 आदिवासियों के उत्थान पर होगा. बाबा के मुताबिक इस फिल्म की 85 फ़ीसदी शूटिंग पूरी हो चुकी है.

षड्यंत्र रचे जाने का आरोप

इमेज कॉपीरइट www.derasachasauda.org

गुरमीत राम रहीम दावा करते हैं कि वे कई विधाओं में सिद्धहस्त हैं. उनका दावा है कि वो हीप हॉप, फ्यूज़न, फोक, जैज, रैप, 107 कंसर्ट में म्यूज़िकल प्रस्तुति दे चुके हैं और अपनी युवावस्था में 32 खेलों में हिस्सा ले चुके हैं.

लेकिन उनको लेकर इतना विवाद क्यों है पूछे जाने पर कहते हैं, "ये 1992 से शुरू हुआ. हमारे पास एक लेटर आया जिसमें ब्योरा था, इतनी शराबबंदी आपने कराई, इतनी अफ़ीम बंद करा दी, इतनी हेरोइन, इतना घाटा हमें आपकी वजह से हुआ उत्तर भारत में. आपको छोड़ेंगे नहीं..हमें लग रहा है ये ऐसी ही ताक़तें है जो ये सब कर रही हैं."

दूसरे लोगों ने भी ड्रग्स का कारोबार करने वालों के ख़िलाफ़ संघर्ष किया है, लेकिन उन पर किसी तरह के आरोप नहीं लगे. इसके जवाब में गुरमीत राम रहीम कहते हैं, "उनके साथ क्यों नहीं हुआ ये हमें नहीं पता. हमने 5 करोड़ लोगों का नशा छुड़वा दिया है. उन्होंने कितना छुड़ाया ये भगवान जाने. उन्होंने बातें ही की हैं या घरों में जाकर काम किया?"

अदालत में पेशी

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik
Image caption सिरसा के स्थानीय पत्रकार रामचंद्र छत्रपति ने छापी थी बाबा के ख़िलाफ़ रिपोर्ट.

स्थानीय पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की अक्टूबर, 2002 में हत्या करने वाले कथित शूटर निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह के पास से डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर किशन लाल की लाइसेंसी बंदूक़ मिली थी और इन दोनों के पास डेरा के नाम पर पंजीकृत वाकी-टाकी भी पाया गया था.

ये सवाल पूछने पर राम रहीम का जवाब था, "हमने किसी को नहीं बोला कि आप किसी का बुरा करें. पांच करोड़ लोग हैं, उनमें कौन कहां कैसा है, ये राम जाने."

राम रहीम आरोपों से अपना पल्ला झाड़ते हुए कहते हैं, "हम कैसे मानें कि हमारी जिम्मेवारी है, अगर ऐसा कुछ होता तो क्या दूसरे यहां पर ठहरते. क्या पढ़े लिखे लोगों की सैकड़ों बेटियां यहां पर रुकतीं. अगर जबरदस्ती या बुरा कर्म करते तो क्या हमारी संख्या चार गुना बढ़ती."

अदालत में सुनवाई के दौरान अनुपस्थित रहने के बारे में पूछे जाने पर, गुरमीत राम रहीम ने कहा, "एक दो बार छोड़कर कभी ऐसा हुआ ही नहीं कि हम नहीं गए. एक बार ऐसा भी हुआ कि सुनवाई रोज़ होती थी, फिर भी हम गए...हमेशा जाते हैं."

कारोबारी साम्राज्य

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

गुरमीत राम रहीम के भारत के कई राज्यों में आश्रम हैं, जिनमें हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र शामिल हैं.

सिरसा में सैकड़ों एकड़ में बने दो आश्रम हैं. डेरा सच्चा सौदा ट्रस्ट का एक मार्केट कॉप्लैक्स भी है, जिसमें प्रत्येक दुकान का नाम 'सच' से शुरू होता है, मसलन सच हार्डवेयर, सर्च मेडिकल स्टोर एवं सच पेट्रोल पंप. यहाँ स्कूल, रेस्तरां, अनाथ लड़कियों के लिए शेल्टर, तीन अस्पताल और होटल भी हैं.

बाबा खुद को अध्यात्मिक गुरु कहते हैं लेकिन अत्याधुनिक सुख सुविधाओं वाला जीवन जीते हैं. महंगे वस्त्रों के अलावा, पंखों की पगड़ी और चमकदार जूतियां पहनते हैं और सुपर लग्जरी कारों के काफिले में चलते हैं.

डेरा का दावा है कि वो एक सामाजिक अध्यात्मिक संस्था है. इसकी सात विभिन्न इकाइयों हैं जो प्रसाशनिक, चिकित्सीय, शैक्षणिक, आईटी और सामाजिक कल्याण की गतिविधियों से जुड़ी हैं.

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

एक राजनीतिक इकाई भी है जो चुनाव के दौरान किसी भी राजनीतिक पार्टी को समर्थन देने का फ़ैसला लेती है. पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान डेरा सच्चा सौदा ने भारतीय जनता पार्टी का समर्थन किया था. भारतीय जनता पार्टी के कई उम्मीदवारों ने बाबा राम रहीम के सामने सिर झुकाया था.

इस फ़ैसले के बारे में पूछे जाने पर गुरमीत राम रहीम ने कहा, "हमारा राजनीति से कोई लेना देना नहीं है. हम सिर्फ़ यही कहते हैं जो अच्छे कर्म करें उनका साथ दें. संगठन ने बोला जो कन्या भ्रूण हत्या, वेश्यावृति, ड्रग्स के कारोबार और सफ़ाई को लेकर जो सबसे ज़्यादा हलफ़नामा भरे उसका साथ दें."

निजी सेना रखने का आरोप

इमेज कॉपीरइट www.derasachasauda.org

डेरा सच्चा सौदा में राम रहीम की निजी सेना चप्पे-चप्पे पर नजर आती है.

2007 में गुरमीत राम रहीम पर ये भी आरोप लगा था कि वे ठीक उसी तरह की पोशाक पहने हुए थे, जिस तरह की 10वें सिख गुरु गोविंद सिंह पहना करते थे. इस पर गुरमीत राम रहीम कहते हैं, "हम 1991 से ऐसी वेशभूषा पहन रहे हैं. वो वेशभूषा चुड़ीदार पायजामा और कलियों का कुर्ता, जो मुगल बादशाह पहना करते थे, गुरु गोविंद सिंह नहीं."

बाबा राम रहीम ये भी मानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले से स्वच्छता और कन्या भ्रूण हत्या का मुद्दा उठाते रहे हैं.

बहरहाल, अपनी फ़िल्म लेकर आ रहे बाबा राम रहीम को धर्मगुरुओं पर तंज कसने वाली आमिर ख़ान की फिल्म 'पीके' नहीं पसंद आई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार