जम्मूः कठुआ और सांबा से पलायन

  • 6 जनवरी 2015
जम्मू में सेना इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption (फ़ाइल फ़ोटो)

जम्मू के कठुआ और सांबा इलाक़े में पाकिस्तान की ओर से फिर से गोलीबारी किए जाने के बाद भारी संख्या में स्थानीय लोग पलायन कर रहे हैं.

सांबा के उपायुक्त मुबारक सिंह ने बीबीसी को बताया कि सांबा में दोपहर से शाम तक हुई भारी गोलीबारी से क़रीब 15-20 गांव प्रभावित हुए.

उन्होंने बताया, "क़रीब 10 हज़ार बच्चों और महिलाओं को सुरक्षित स्थानों पर बने कैंपों में जाना पड़ा है."

सांबा से सटे कठुआ इलाक़े की कमोबेश यही स्थिति है.

कठुआ के उपायुक्त शाहिद इक़बाल चौधरी ने जानकारी दी है, "सोमवार को दोपहर से रात तक भारी गोलीबारी चलती रही. यहां के 57 गांव प्रभावित हुए हैं. इलाके में 34 शरणार्थी शिविर हैं जिनमें से 14 फ़िलहाल सक्रिय हैं."

शिविर में शरण

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (फ़ाइल फ़ोटो)

इक़बाल चौधरी के मुताबिक़ इन शिविरों में क़रीब आठ हज़ार लोगों ने शरण ले रखी है.

उपायुक्त शाहिद इक़बाल चौधरी ने ये भी बताया कि ज़िला प्रशासन शरणार्थियों को सभी ज़रूरी सुविधाएं मुहैया कराने में लगा हुआ है.

उनका कहना है कि पाकिस्तान की ओर से मंगलवार की सुबह चार बजे से दोबारा गोलीबारी शुरू कर दी गई.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption (फ़ाइल फ़ोटो)

सांबा और कठुआ के शरणार्थी कैंप की सुरक्षा में सेना बल तैनात किए गए हैं. सेना के जवान प्रभावित इलाक़े के लोगों की मदद करने में जुटे हुए हैं.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल मनीष मेहता का कहना है, "सीमापार से गोलीबारी में फंसे स्थानीय नागरिकों को सेना की गाड़ियों की मदद से इलाक़े से हटा कर शिविरों तक ले जाया जा रहा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार