वर्ल्ड कप की टीम, कितना सही है चयन?

इमेज कॉपीरइट GETTY

मंगलवार को अपने ज़माने के धाकड़ तेज़ तर्रार बल्लेबाज़ संदीप पाटिल की अध्यक्षता में आगामी विश्व कप क्रिकेट टुर्नामेंट के लिए भारतीय क्रिकेट का चयन हुआ.

टीम में लगभग नौ-दस नाम तो पहले से ही पक्के थे, तीन-चार नामों पर ज़रूर नज़र थी कि क्या वो टीम में जगह बना पाएंगे?

विश्व कप के लिए भारतीय टीम के चयन को लेकर जाने-माने क्रिकेट समीक्षक विजय लोकपल्ली कहते हैं कि एकदम सही टीम चुनी गई है.

हालांकि भावनात्मक रुप से क्रिकेट प्रेमियों का मानना था कि युवराज सिंह को टीम में होना चाहिए था, लेकिन चयनकर्ताओं ने खिलाड़ियों की मौजूदा फ़ॉर्म और फ़िटनेस को ध्यान में रखा है.

पिछले विश्व कप में युवराज ने अच्छी स्पिन गेंदबाज़ी भी की थी. उन्होंने इन दिनों तीन शतक भी बनाए हैं लेकिन शायद चयनकर्ताओं को उनकी फ़िटनेस पर भरोसा नहीं था. अब चयनकर्ता आगे देखना चाहते हैं, पीछे नहीं.

शिखर पर सवाल

इमेज कॉपीरइट AFP

1983 में विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट जीतने वाली भारतीय टीम के पूर्व आलराउंडर मदन लाल कहते हैं कि इस टीम में मुरली विजय को ज़रूर होना चाहिए था.

मदन लाल मानते हैं, "शिखर धवन और रोहित शर्मा विदेशी पिचों पर अधिक कामयाब नहीं हुए हैं. कहने को कह सकते हैं कि टेस्ट और एकदिवसीय अलग क्रिकेट हैं जहां वह अधिक सफल रहे हैं, इसके बावजूद उनकी मौजूदा फ़ॉर्म ठीक नहीं है."

वहीं विजय लोकपल्ली शिखर धवन के चयन को सही ठहराते हैं. उनका मानना हैं कि जैसे ही एकदिवसीय मैच शुरू होंगे, फ़िल्डिंग रिस्ट्रिक्ट होगी तब धवन का आक्रामक रुप देखने को मिलेगा. इसके अलावा वो इंडिया-ए के लिए भी ऑस्ट्रेलिया में खेल चुके हैं.

भारतीय टीम में सबसे चौंकाने वाला चयन रविंद्र जडेजा का हैं. कंधे की चोट से वह लम्बे समय से जूझ रहे हैं.

ऑलराउंडर पर निर्भरता

इमेज कॉपीरइट Reuters

बीसीसीआई के सचिव संजय पटेल ने कहा कि बोर्ड के फ़िज़ियो के अनुसार वह अगले दस दिनों में फ़िट हो जाएंगे.

इसे लेकर विजय लोकपल्ली कहते हैं कि जडेजा को लेकर चयनकर्ताओं ने जोख़िम उठाया हैं. अब अगर वह विश्व कप में चोटिल हो गए तो उनकी जगह खिलाड़ी नहीं मिलेगा.

स्टुअर्ट बिन्नी के चयन को लेकर विजय लोकपल्ली का मानना हैं कि भारत में अधिक आलराउंडर नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

स्टुअर्ट बिन्नी ऑस्ट्रेलिया जैसी पिचों पर अच्छी गेंदबाज़ी कर सकते हैं और निचले क्रम पर बल्लेबाज़ी भी कर सकते हैं. दरअसल टीम को स्पिन आलराउंडर की ज़रूरत नहीं थी क्योंकि उसके लिए रविंद्र जडेजा और आर अश्विन मौजूद हैं.

अब चयनकर्ताओं ने टीम चुन ली है, देखना है, यह मैदान पर कैसा खेलती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार