'भ्रष्टाचार, दबाव के कारण छोड़ा सेंसर बोर्ड'

इमेज कॉपीरइट leela samson

सेंसर बोर्ड की प्रमुख लीला सैमसन ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. कहा जा रहा है कि विवादित फ़िल्म मैसेंजर ऑफ गॉड को रिलीज़ की सरकारी मंजूरी मिलने को लेकर उन्होंने इस्तीफ़ा दिया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ विवादित फ़िल्म 'मैसेंजर ऑफ़ गॉड' को फ़िल्म सर्टिफिकेशन एपेलेट ट्राईब्यूनल (एफ़सीएटी) से मंजूरी मिलने के बाद लीला सैमसन ने ने कल रात ही इस्तीफ़ा देने का फ़ैसला ले लिया था.

लीला सैमसन ने इस मामले एक बयान में कहा है कि उनके इस्तीफ़े का कारण ''संगठन के काम में हस्तक्षेप, दबाव और भ्रष्टाचार है. उन्होंने कहा है कि मंत्रालय ने पैनल में जो अधिकारी नियुक्त किए हैं वो हस्तक्षेप कर रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

लीला का कहना है कि संगठन के ''बोर्ड की बैठक नौ महीने में एक बार भी नहीं हुई है और न ही बैठकों के लिए कोई फ़ंड'' है.

विवादित फ़िल्म 'मैसेंजर ऑफ़ गॉड' में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम सिंह मुख्य भूमिका में है.

फ़िल्म पर सेंसर बोर्ड ने रोक लगाई थी लेकिन ख़बर है कि फ़िल्म को रिलीज़ की अनुमति मिल गई है. हालांकि जब बीबीसी ने लीला सैमसन से फ़ोन पर इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि वो इस फ़िल्म के बारे में कुछ भी नहीं कहना चाहेंगी.

आधिकारिक सूचना

इमेज कॉपीरइट www.derasachasauda.org

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जब लीला सैमसन से पूछा गया कि क्या उन्हें एफ़सीएटी की मंजूरी के बारे में पता है तो उनका कहना था, '' मैंने ऐसा सुना है लेकिन लिखित तौर पर कुछ भी नहीं पता. फिर भी यह सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ सर्टिफ़िकेशन का मज़ाक उड़ाना है. मेरा इस्तीफ़ा पक्का है. मैंने सचिव (सूचना और प्रसारण मंत्रालय) को बता दिया है.''

हालांकि फ़िल्म को मंजूरी के बारे में अभी तक कोई भी आधिकारिक सूचना नहीं है.

हरियाणा के डेरा सच्चा सौदा के प्रवक्ता ने कहा, "हमें मिली सूचना के आधार पर एफ़सीएटी ने फ़िल्म रिलीज़ को मंजूरी दे दी है लेकिन लिखित में फ़ैसले का इंतज़ार है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)