मीडिया हदों से बाहर जाता है: जेटली

  • 18 जनवरी 2015
अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट AFP

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि मीडिया अपनी सीमाओं का पालन ख़ुद करे तो बेहतर होगा.

उनका कहना है कि संविधान और सरकार मीडिया की स्वतंत्रता का सम्मान करती है.

नई दिल्ली में जस्टिस जे एस वर्मा मेमोरियल लेक्चर में 'मीडिया की स्वतंत्रता और जवाबदेही' विषय पर जेटली ने मीडिया पर कई सवाल भी खड़े किए.

पढ़िए उनके भाषण की 10 प्रमुख बातेंः

1. प्रतिबंधों का दौर अब ख़त्म हो चुका है. किसी भी सरकार के लिए सेंसरशिप लगाना संभव नहीं. कैमरे ने ख़बरों की परिभाषा बदल दी है.

2. मीडिया नागरिकों के लिए आंख और कान है लेकिन टीआरपी की वजह से ख़बरों की कवरेज पर असर पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

3. मीडिया की अनियंत्रित रिपोर्टिंग की वजह से ही भारत के विभिन्न हिस्से में रह रहे पूर्वोत्तर छात्रों को अपने गृह राज्य में वापस जाना पड़ा.

4. भारतीय मीडिया अपनी सीमाओं का पालन नहीं करता और मीडिया ट्रायल ज़रूर ख़त्म होना चाहिए.

5. मीडिया को अदालत में विचाराधीन मुद्दों, किसी आतंकी घटना या किसी व्यक्ति की निजी जिंदगी से जुड़ी ख़बरों को कवर करते वक़्त सावधानी बरतनी चाहिए.

6. मीडिया में अभी एफडीआई बढ़ाने का फ़ैसला नहीं हो पाया है.

7. मीडिया के दूसरे माध्यमों की तुलना में डिजिटल मीडिया ज़्यादा असरदार है लेकिन यहां भी तथ्यों की पुष्टि के मानक का संकट है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption जेटली ने कहा कि मीडिया को ख़बरों की कवरेज में सावधानी बरतनी चाहिए

8. प्रसारण क्षेत्र में अत्याधुनिक तकनीक ने भी अपनी चुनौतियां पेश की हैं और भविष्य में इसके विकास की गति का अंदाज़ा लगाना मुश्किल है.

9. मीडिया पहले की तुलना में ज़्यादा मजबूत हुई है. पत्रिकाओं के सामने सबसे ज़्यादा चुनौती है. सोशल माध्यम ने मीडिया का स्वरूप बदल दिया है.

10. पहले मीडिया कुछ ग़लत कहता था तो निराशा होती थी लेकिन अब हम कोई चिंता नहीं करते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)