'मोदी नसीबवाला है, इससे भी उन्हें दिक्कत'

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दिल्ली के द्वारका में एक चुनावी रैली को संबोधित किया.

मोदी के चुनावी भाषण की 10 अहम बातें.

1- दिल्ली में हमारा मुक़ाबला ऐसे दो दलों (कांग्रेस और आम आदमी पार्टी) से है जो सरकार बनाने के लिए परदे के पीछे सौदा करते हैं.

2- दोनों दलों में झूठ और सनसनी फैलाने की होड़ लगी है. झूठ बोलने की स्पर्धा हो रही है. शायद इससे पहले दिल्ली के चुनावों में इस कदर झूठ का साया नहीं रहा होगा.

3- टीवी में जगह पाने के लिए सरकार नहीं चलानी होती, बल्कि सरकार का काम लोगों के दुख दर्द को बांटना होता है. दिल्ली को संवेदनशील और ज़िम्मेदार सरकार की ज़रूरत है.

4- मैं असली द्वारिका से हूं, लेकिन अब मैं दिल्लीवासी हो गया हूँ.

5- पेट्रोल, डीज़ल के दाम कम होने से लोगों की जेब में कुछ पैसा बचा है. इस पर भी आलोचक कहते हैं कि मोदी 'नसीबवाला' है. अगर 'नसीबवाले' से काम बन रहा है तो 'बदनसीब' को लाने की क्या ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट EPA

6- मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले भी देश के नागरिक सामर्थ्यवान थे, लेकिन अब मुझे सवा सौ करोड़ लोगों की ताक़त मिली है तो मैं दुनिया में हर किसी से आंख में आंख मिलाकर बात करता हूँ.

7- पहले मेरा माखौल उड़ाया जाता था कि मोदी गुजरात के बाहर कुछ नहीं जानता, विदेश नीति का क्या होगा. लेकिन जिसे देश की नीति मालूम होती है, उसके लिए विदेश नीति कठिन नहीं होती.

8- मेरे पास किताबी ज्ञान नहीं है, बल्कि मुझे जनशक्ति की पहचान है.

9- झुग्गी-झोपड़ी की जगह पक्का मकान बनाया जाएगा. वर्ष 2022 तक सभी को पक्के मकान दे दिए जाएंगे.

10- जनधन योजना के ज़रिए ग़रीबों को एक लाख रुपए का बीमा मुफ़्त में दिया गया. जनधन योजना के ज़रिए ग़रीबों ने बैंकों में करीब 10 हज़ार करोड़ रुपए जमा कराए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार