भारत लोकतंत्र है, इसलिए उसके करीब: ओबामा

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का कहना है कि भारत से अमरीका की नज़दीकी का एक ख़ास कारण उसका लोकतंत्रत होना है, जो चीन नहीं है.

ये बात उन्होंने अमरीकी टीवी चैनल सीएनएन को दिए एक इंटरव्यू में कही.

हाल ही में ओबामा ने भारत का तीन दिवसीय दौरा किया और वो दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड के मौके पर मुख्य अतिथि थे.

ओबामा ने कहा, "जो बात हमें विशेष तौर पर भारत के क़रीब लाती है, वो है लोकतंत्र, जो उन मूल्यों और आकांक्षाओं को प्रतिबिंबित करता है, जो अमरीका से मिलती जुलती हैं, जबकि चीन को लेकर ऐसा नहीं है."

ओबामा ने साफ़ किया कि अमरीका का प्रयास होगा कि चीन से उसके रिश्ते रचनात्मक बने रहें, लेकिन चीन का उभार क्षेत्र के अन्य देशों की क़ीमत पर नहीं होना चाहिए.

कई विश्लेषकों की राय में चीन भारत और अमरीका की गहराती दोस्ती से खुश नहीं है और वो इसे ख़ुद को घेरने की कोशिश मानता है.

ओबामा के भारत दौरे के ठीक बाद भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज चीन की यात्रा पर है और मई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन जाने वाले हैं.

बीजिंग में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार सैबल दास गुप्ता की राय है कि मोदी चीन को ये विश्वास दिलाने का प्रयास करेंगे कि भारत उसके साथ रिश्तों को मज़बूत करना चाहता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)