इशरत मुठभेड़: वंजारा और पांडेय को ज़मानत

इशरत जहां की मां और बहन इमेज कॉपीरइट PTI

इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधिकारी डीजी वंजारा को जमानत मिल गई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अहमदाबाद में विशेष सीबीआई अदालत ने गुरुवार को डीजी वंजारा के साथ-साथ इस मामले में निलंबित गुजरात के एक और पुलिस अधिकारी पीपी पांडेय को भी ज़मानत दे दी है.

डीजी वंजारा पिछले आठ साल से और पीपी पांडेय अगस्त 2013 में अदालत के सामने आत्मसमर्पण करने के बाद से जेल में बंद थे.

15 जून 2004 को अहमदाबाद के पास हुए फर्जी मुठभेड़ में 19 साल की इशरत जहां और तीन अन्य लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट GUJRAT.GOV.IN
Image caption पुलिस अधिकारी पीपी पांडेय अगस्त 2013 में आत्मसमर्पण करने के बाद से जेल में बंद थे.

इस घटना के समय पीपी पांडेय अहमदाबाद में संयुक्त पुलिस आयुक्त के पद पर तैनात थे और अपराध शाखा की अगुआई कर रहे थे.

उस समय गुजरात पुलिस ने ये कहा था कि इशरत और उनके तीन दोस्त तब गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या करने के इरादे से अहमदाबाद पहुंचे थे, जहां पुलिस के साथ मुठभेड़ में उनकी मौत हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार