आम आदमी को वाई-फ़ाई का हाई-फ़ाई वादा

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

दिल्ली विधानसभा में भारी जीत हासिल करने वाली आम आदमी पार्टी ने चुनावों से पहले सार्वजनिक स्थलों पर मुफ़्त वाई-फ़ाई की सुविधा देने का वादा किया था.

तो क्या है मुफ़्त वाई-फ़ाई सुविधा? इसे अमली जामा कैसे पहनाया जा सकता है? दुनिया के किन-किन शहरों में ये उपलब्ध है?

क्या है वाई-फ़ाई?

इमेज कॉपीरइट Getty

जब 2.4GHz के माइक्रोवेव स्पेक्ट्रम को वाई-फ़ाई के लिए मुफ़्त किया गया तब किसी को अंदाज़ा नहीं था कि एक दिन इस तकनीक से पूरे के पूरे शहर को इंटरनेट से और सरकार से जोड़ा जा सकेगा.

इंटरनेट से जुड़ने के अनेक तरीकों में से एक है वाई-फ़ाई, जो बिना तार के आपके लैपटॉप, स्मार्टफ़ोन या टैबलेट को इंटरनेट से जोड़ता है.

क्या है आप का वादा?

आप ने डिजिटल डिवाइड को पाटने के लिए शिक्षा, रोज़गार, व्यापार और महिला सुरक्षा से संबंधित समस्याओं से जूझने के लिए पब्लिक वाई-फ़ाई का इस्तेमाल करने का वादा किया है.

आप का लक्ष्य दिल्ली की जनता को सरकार से जोड़ने का है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

इमेज कॉपीरइट AFP

आईटी एक्सपर्ट साजन वेन्नीयूर के अनुसार, "तकनीकी स्तर पर यह एक बढ़िया पहल है जिससे मध्यम और निचले मध्यम वर्गीय लोगों को फ़ायदा पहुंचेगा. लेकिन गैस बुकिंग, शिकायत दर्ज़ करने जैसे कई काम फ़ोन पर आसानी से हो जाते हैं और इस क्षेत्र में वाई-फ़ाई से अधिक फ़ायदा होगा ऐसा नहीं लगता. फिर भी, इंटरनेट के साथ अधिक लोगों को जोड़ने का यह अच्छा उपाय है."

टेलीकॉम और आईटी एक्सपर्ट रवि विश्वेश्वरैया शारदा प्रसाद का मानना है, "मुफ़्त वाई-फ़ाई प्रदान करना आसान नहीं है. हो सकता है कि 15-20 मिनट के बाद उपभोक्ताओं को इस सुविधा के लिए दाम देना पड़े, जैसे एक मिनट के लिए 50 पैसे. लेकिन इससे पर्यटकों और ख़रीदारों को जानकारी मिलने में फ़ायदा अवश्य होगा. भारत संचार निगम लिमिटेड ने 7,000 करोड़ रुपए का बजट इस काम के लिए पहले ही उपलब्ध कराया है और आने वाले कुछ हफ्तों में दिल्ली सरकार इस दिशा में पहल करती दिख सकती है."

रवि कहते हैं, "वाई-फ़ाई नेटवर्क पर सुरक्षा बेहद महत्वपूर्ण मुद्दा है, जिसका ख़ास ध्यान रखने की ज़रूरत है."

दिल्ली में पब्लिक वाई-फ़ाई कहां?

साल 2014 में अगस्त के महीने में ख़ान मार्केट और बाद में नवंबर में दिल्ली के कनॉट प्लेस में पब्लिक वाई-फ़ाई की सेवा की शुरुआत की गई.

इसके तहत 20 मिनट की फ्री सेवा के बाद 10 रुपये में कोई भी 30 मिनट तक वाई-फ़ाई का इस्तेमाल कर सकता है.

दुनिया में कहाँ-कहाँ मुफ़्त वाई-फ़ाई?

इमेज कॉपीरइट EPA

कैलिफोर्निया- ऐपल के जन्म स्थान कैलिफोर्निया के शहर सनीवेल अमरीका का वो पहला शहर बना जहां मुफ़्त वाई-फ़ाई की सेवा प्रदान की गई. 2005 में शुरू हुई इस नेटवर्क सेवा के लिए ज़रूरी धन, विज्ञापनों के माध्यम से जुटाया गया.

तेल अवीव- इसराइल के तेल अवीव में कम से कम 80 वाई-फ़ाई स्पॉट्स के ज़रिए पूरे शहर को इंटरनेट से जोड़ा गया. इस सेवा को मोटोरोला चला रहा है, जिस पर कुल 160 लाख डॉलर खर्च हुए. इस कनेक्शन पर बड़ी फाइलों का डाउनलोड करना और 'आपत्तिजनक' वेबसाइट देखना मना है.

मकाउ- पर्यटन के लिए प्रसिद्ध चीन के मकाउ शहर को 150 हॉट-स्पॉट के ज़रिए इंटरनेट से जोड़ा गया है. इस सेवा के तहत 45 मिनट तक मुफ़्त वाई-फ़ाई नागरिकों और पर्यटकों को मिलता है. इस सेवा की ख़ास बात है कि आप सुविधा अनुसार एन्क्रिप्टेड या बिना एन्क्रिप्शन के कनेक्शन का इस्तेमाल कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जोहान्सबर्ग- अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में 1000 हॉट-स्पॉट के ज़रिए पूरे शहर को जोड़ने की शुरुआत 2014 में हुई, जिसमें 85 पुस्तकालय भी शामिल हैं. साल 2016 के अंत तक इस सेवा के पूरे होने की उम्मीद है. जोहान्सबर्ग से 60 किलोमीटर दूर त्श्वाने में इस मुफ़्त सेवा का उपयोग करते हुए ऑन-डिमांड वीडियो की सेवा आरंभ की गई है.

पेनांग- 2009 में मलेशिया के पेनांग में ये सुविधा आरंभ हुई जिसमें 1550 से ज़्यादा हॉट-स्पॉट के ज़रिए पूरे द्वीप में मुफ़्त वाई-फ़ाई मुहैया कराया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार