हिंदुत्व की राजनीति को 'आप' की चुनौती

आम आदमी पार्टी के समर्थक इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की पहाड़ तोड़ जीत ने हिंदुत्व की राजनीति पर बड़ा सवालिया निशान लगा दिया है.

हालाँकि बीजेपी ने ये चुनाव हिंदुत्व के भरोसे नहीं लड़ा था लेकिन नरेंद्र मोदी की जीत को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े व्यक्तियों और संगठनों ने हिंदुत्व के एजेंडा के खुले प्रचार का लाइसेंस मान लिया था.

(पढ़ेंः विवादित बयानों की 'सच्चाई')

पिछले छह महीनों में 'घर वापसी', 'लव जिहाद', 'रामज़ादे-*****', 'देशप्रेमी गोडसे' जैसे कई जुमले सुर्ख़ियों में लाए गए और संघ परिवार ने ये मान लिया था कि हिंदुत्ववाद के अश्वमेधी घोड़े की लगाम थामने की ताक़त अब किसी में नहीं है.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Sanjiv Chandan
Image caption राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मोहन भागवत और विहिप नेता अशोक सिंघल.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कर ही दिया, बीजेपी के सांसद साक्षी महाराज ने महात्मा गाँधी के हत्यारे को देशप्रेमी कहा, लेकिन इन मुद्दों पर संसद में हुए हंगामे के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार चुप्पी साधे रहे.

(पढ़ेंः देश में सबकुछ ठीक है?)

यही नहीं, गणतंत्र दिवस को जारी किए गए सरकारी विज्ञापन में संविधान के आमुख से धर्मनिरपेक्ष और समाजवादी जैसे शब्द ग़ायब कर दिए गए थे.

इसी कारण सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा कि 'पता नहीं भारत धर्मनिरपेक्ष कब तक बना रहेगा.'

जनता के मुद्दे

इमेज कॉपीरइट AFP

संघ परिवार हिंदुओं के वर्चस्व को भारतीय राजनीति का मुख्य 'थीम' बनाना चाहता है.

पहले लोकसभा और फिर महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा में मोदी ब्रांड को मिली जीत से उनके हौसले और बुलंद हुए हैं.

(पढ़ेंः मोदी के गले की हड्डी 'कट्टर हिंदुत्व')

लेकिन अरविंद केजरीवाल ने साबित किया कि राजनीतिक एजेंडे को फिर से जनता के मुद्दों की ओर खींचना मुमकिन है.

और कम से कम दिल्ली के वोटरों ने तो बता दिया कि उनके लिए रिश्वतख़ोरी, भ्रष्टाचार, सस्ता पानी-बिजली और जन-सुविधाओं जैसे मुद्दे भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने से ज़्यादा महत्वपूर्ण हैं.

कड़ी परीक्षा

इमेज कॉपीरइट British Broadcasting Corporation

यानी हिंदुओं के वर्चस्व को देश की मुख्य राजनीतिक थीम बनाना इतना आसान नहीं है.

हालाँकि आने वाले दिनों में बिहार और पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में इसकी और कड़ी परीक्षा होना बाक़ी है.

(पढ़ेंः हिंदू बनाओगे, जाति क्या दिलाओगे?)

पर क्या दिल्ली में बीजेपी को लगभग मटियामेट कर देने वाली इस हार के बाद हिंदुत्ववादी संगठन कुछ सबक़ सीखेंगे और अपने राजनीतिक एजेंडे पर फिर से विचार करेंगे?

क्या नरेंद्र मोदी हिंदुत्व के मुद्दों पर आगे भी चुप्पी साधे रहेंगे या फिर दिल्ली के चुनाव नतीजों के बाद वो ख़ुद को संघ परिवार से अलग दिखाने की कोशिश करेंगे?

विराट बहुमत

इमेज कॉपीरइट AP

दिल्ली नतीजों का भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार के आंतरिक समीकरणों पर भी असर पड़ेगा.

(पढ़ेंः 'पूर्ण हिंदू राज' का सपना)

भारतीय जनता पार्टी के भीतर ही बहुत से नेता मोदी को मिले विराट बहुमत के बाद उनसे और अमित शाह से असहमत होते हुए भी ख़ामोश थे.

हालाँकि अख़बारों में अनाम सूत्रों के हवाले से पार्टी के भीतर असंतोष होने की ख़बरें यदा कदा छपती रहती हैं.

बीजेपी के सर्वेसर्वा

इमेज कॉपीरइट PTI

पार्टी का एक तबक़ा अमित शाह को अचानक दिए गए महत्व और लगभग अजेय छवि से भी ख़ुश नहीं है.

(पढ़ेंः राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का 'अर्थात')

लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश में 80 में से 72 सीटें जितवाने का श्रेय अमित शाह को ही मिला था और इससे विवादों में घिरे गुजरात के इस स्थानीय नेता का क़द इतना बढ़ा कि वो बीजेपी के सर्वेसर्वा बना दिए गए.

लेकिन संघ परिवार के भीतर और पार्टी के कुछ लोग अमित शाह के तौर तरीक़ों से असहज महसूस कर रहे हैं और ये भी कहा जाने लगा है कि दिल्ली चुनावों के बाद अमित शाह के विरोधियों को मज़बूती मिलेगी.

दो-दो हाथ

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर नरेंद्र मोदी चाहते तो इन चुनावों से अलग रहकर ख़ुद को हार के असर से बचा सकते थे.

(पढ़ेंः क्या हिंदुत्व के सिलेंडर की हवा निकल चुकी है?)

लेकिन केजरीवाल के बराबर आकर दो-दो हाथ करने का फ़ैसला करके मोदी ने दिल्ली चुनावों के महत्व को ख़ुद ही बहुत बढ़ा दिया.

वो ही नहीं उनके लेफ़्टिनेंट अमित शाह, कैबिनेट मंत्रियों का हुजूम, सांसदों की फ़ौज मैदान में उतर गई.

दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों की लड़ाई केजरीवाल बनाम मोदी की लड़ाई बनकर रह गई.

जनता की नज़र

इमेज कॉपीरइट AP

शहर के हर कोने और चौराहे को 'चलो चलें मोदी के साथ' के बैनरों से पाट दिया गया था – जैसे मोदी ख़ुद दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की लड़ाई लड़ रहे हों.

नरेंद्र मोदी और अमित शाह कल तक अजेय और सर्वशक्तिमान लगते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

आज जनता की नज़रों में उनकी छवि का अंदाज़ा लगाना हो तो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे कार्टूनों और टिप्पणियों को देखें– किसी कार्टून में अरविंद केजरीवाल को कूड़ागाड़ी खींचते हुए दिखाया है जिसमें नरेंद्र मोदी, अमित शाह, अजय माकन आदि लदे हुए हैं.

किसी कार्टून में केजरीवाल को शिकारी की पोशाक में दिखाया है जिसके एक हाथ में दुनाली और दूसरे हाथ में एक ख़रग़ोश है. ख़रग़ोश के चेहरे की जगह फ़ोटोशॉप की मदद से मोदी का चेहरा लगा दिया गया है.

तस्वीर बदलते देर लगती है क्या?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार