कौन हैं भाजपा के तीन ख़ुशनसीब विधायक

  • 10 फरवरी 2015
सतीश उपाध्याय, अमित शाह और नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट EPA

पिछले लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सभी सीटों पर क़ब्ज़ा करने वाली भारतीय जनता पार्टी बीते सात फ़रवरी को हुए विधानसभा चुनाव में सिर्फ़ तीन सीटों तक सिमट के रह गई.

विजेंदर गुप्ता, ओम प्रकाश शर्मा और जगदीश प्रधान, बस इन तीन विधायकों पर पूरे सरकार को घेरने की ज़िम्मेदारी दिल्ली के मतदाताओं ने डाल दी है.

रोहिणी सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की है. विजेंदर गुप्ता ने आम आदमी पार्टी के सीएल गुप्ता को हराया.

विजेंदर कुमार को 59,866 वोट मिले जबकि गुप्ता 54,499 वोट हासिल कर दूसरे नंबर पर रहे. यहां टक्कर कुछ इस तरह थी कि तीसरे नंबर पर रहे सुखबीर शर्मा को सिर्फ़ 3,399 वोट मिल सके.

दहाई भी नहीं पहुंची भाजपा

इमेज कॉपीरइट Ravi chunchula and BBC

स्थिति यह रही कि भाजपा और आम आदमी पार्टी के बीच का जितना अंतर है, कांग्रेस को उतने वोट भी नहीं मिल सके.

ज़ाहिर है, विजेंदर कुमार और सीएल गुप्ता को छोड़ सभी उम्मीदवारों की ज़मानत तक ज़ब्त हो गई.

रोहिणी में भाजपा की हार सिर्फ़ 2013 में हुई थी. इसके अलावा वो यहां से हमेशा जीतती आई है.

पिछली बार विजेंदर कुमार को शीला दीक्षित और अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ नई दिल्ली में उतारा गया था और वे बुरी तरह हार गए थे.

अकेले अनुभवी सदस्य

इमेज कॉपीरइट Reuters

विजेंदर अकेले भाजपा विधायक हैं, जिनके पास विधानसभा का अनुभव है. सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ वे अकेले आम आदमी पार्टी के 67 सदस्यों से कैसे मोर्चा संभालेंगे, यह देखना वाक़ई दिलचस्प होगा.

भारतीय जनता पार्टी के ओम प्रकाश शर्मा ने विश्वासनगर सीट पर भी कब्ज़ा कर लिया है. उन्होंने आम आदमी पार्टी के अतुल गुप्ता को 11,000 वोट के बड़े अंतर से शिकस्त दी.

मुस्तफ़ाबाद सीट भी भारतीय जनता पार्टी की झोली में गई. जगदीश प्रधान ने कांग्रेस के हसन अहमद को 5,000 वोटों के अंतर से हराया.

पिछली बार वे यहां से चुने गए थे, पर इस बार उन्हें मुंह की खानी पड़ी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार