भारतीय पर हमला: पुलिस अफ़सर ग़िरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Police camera

अलाबामा के मैडिसन इलाक़े में एक भारतीय बुज़ुर्ग के ख़िलाफ़ ज़्यादती के मामले में एक पुलिस अधिकारी को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

मैडिसन पुलिस प्रमुख लैरी मंसी ने इस मामले से जुड़े पुलिस अधिकारी एरिक पार्कर को विभाग से मुअत्तल करने की सिफ़ारिश की है.

भारत से अमरीका में अपने बेटे-बहू के पास अपने नवजात पोते की देखरेख के लिए आए सुरेशभाई पटेल अपने घर के पास टहल रहे थे, जब पुलिस ने उन्हें रोका.

पुलिस के अनुसार उन्हें किसी पड़ोसी ने फ़ोन किया था कि एक संदिग्ध सा व्यक्ति वहां घूम रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty

सुरेशभाई पटेल अंग्रेज़ी नहीं बोल पाते और पुलिस का कहना है कि उन्हें रोककर तलाशी लेने की कोशिश की गई तो वह अपनी जेब में हाथ डालने लगे. इसके बाद उन्हें ज़मीन पर गिरा दिया गया और वह ज़ख़्मी हो गए.

उनके बेटे चिराग पटेल ने कहा है कि उनके पिता आंशिक रूप से लकवे का शिकार हो गए हैं और उन्हें ठीक होने में महीनों लग सकते हैं.

पुलिस की माफ़ी

मैडिसन के पुलिस प्रमुख ने पूरी घटना का वीडियो जारी किया है जिसमें सुरेशभाई पटेल को ज़मीन पर गिराते दिखाया गया है.

पुलिस प्रमुख का कहना था, ''मैं मिस्टर पटेल और उनके परिवार और स्थानीय समुदाय से तहेदिल से माफ़ी मांगता हूं..हमारी कोशिश रहती है कि हम उम्मीदों से बढ़-चढ़कर खुद को साबित करें."

इमेज कॉपीरइट Reuters

पुलिस अधिकारी एरिक पार्कर के खिलाफ़ हमला करने का मुक़दमा तो दर्ज हुआ ही, एफ़बीआई ने भी नागरिक अधिकारों के उल्लंघन के मामले की जांच शुरू कर दी है.

सुरेशभाई पटेल के बेटे चिराग पटेल ने भी स्थानीय अदालत में पुलिस विभाग और अधिकारियों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर किया है.

इसके पहले अमरीकी विदेश विभाग ने भी बृहस्पतिवार को इस घटना पर अफ़सोस ज़ाहिर किया था.

चिराग पटेल ने बुधवार को मीडिया को दिए बयान में कहा था कि वह बेहद साधारण परिवार से हैं और उन्हें कतई उम्मीद नहीं थी कि जिस इलाक़े में वह रहते हैं वहां इस तरह की घटना भी हो सकती है.

उनके पिता के इलाज में काफ़ी खर्च आएगा और स्थानीय भारतीय समुदाय उसके लिए चंदा भी इकट्ठा कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)